Ad

हल्द्वानी- साहित्य का संगम हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में पद्मश्री मालिनी अवस्थी सहित देश के ये दिग्गज लेखक रहे मौजूद

खबर शेयर करें -

हल्द्वानी- हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे दिन देश के जाने-माने कथाकार, साहित्यकार उपन्यासकार एक मंच में दिखाई दिए। लिटरेचर फेस्टिवल के अंतिम दिन जहां लेखक कौस्तुभ आनंद चंदोला की दो पुस्तकों का विमोचन किया गया, तो वही पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने लोक कला और साहित्य के नए दौर की चर्चा कर सबका मन मोह लिया।

हल्द्वानी के डीपीएस स्कूल में आयोजित हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल के अंतिम दिन सुबह प्रथम सत्र में गीतकार विजय अकेला और कवियत्री गौरी मिश्रा ने बॉलीवुड में साहित्य को लेकर विस्तार से चर्चा की। जिसमें खूब शेरो शायरी का दौर चला । जिसके पश्चात “चर्चा नई किताबों की” सत्र में लेखक कौस्तुभ आनंद चंदोला, अमृता पांडे, दीपक उपाध्याय, रंजना शाही ने नई किताबों पर चर्चा की। साथ ही कौस्तुभ आनंद चंदोला की गर्म रेत और प्रेत मां किताब का विमोचन भी किया गया। लिटरेचर फेस्टिवल के तीसरे सत्र में “महिलाओं की रुचिकर साहित्य” को लेकर प्रख्यात लेखक प्रीतपाल कौर, सोनाली मिश्रा और सरजना शर्मा में महिलाओं द्वारा लिखी गई उपन्यास और किताबों पर विस्तार से चर्चा की और समाज के महिलाओं के प्रति नजरिए को विस्तार से सुनाया।

वहीं चौथे सत्र में “बात किताबों की” के लिए वरिष्ठ पत्रकार विजय त्रिवेदी, दूरदर्शन के वरिष्ठ एंकर अशोक श्रीवास्तव और वरिष्ठ पत्रकार अनुराग पुनेठा देश में चल रहे नैरेटिव सेट करने के एजेंडे पर विस्तार से चर्चा की।

जिसके पश्चात “बुक्स विथ ऋचा” सत्र में आईएएस व लेखक रणवीर सिंह चौहान और ऋचा अनिरुद्ध ने रणवीर चौहान की लिखी पुस्तक 84 आलमबाग पर चर्चा करते हुए साहित्य और प्रशासनिक अधिकारी की व्यवस्थाओं पर प्रकाश डाला।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) एक और भर्ती की जांच करेगी STF, DGP ने दिए निर्देश
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां घूमने आई पर्यटक का बॉयफ्रेंड से फोन पर हुआ झगड़ा, पी कर कर दिया ऐसा काम

इसके पश्चात राज्य के डीजीपी अशोक कुमार की पुस्तक “खाकी में इंसान” पर डीजीपी अशोक कुमार से वरिष्ठ पत्रकार अनुराग पुनेठा के विस्तार से चर्चा की।

जिसके पश्चात पांचजन्य के 75 साल सत्र में पंचजन्य के संपादक हितेश शंकर के साथ लेखक सतीश शर्मा ने विस्तार से पत्रकारिता के सामने चुनौती को लेकर कई प्रश्न किये। जिसके पश्चात पद्मश्री मालिनी अवस्थी के साथ पंचजन्य के संपादक हितेश शंकर द्वारा की गई चर्चा में न सिर्फ कला और साहित्य में बढ़ रही राजनीति को लेकर चर्चा हुई, तो वही मालिनी अवस्थी ने कई राग सुनाएं जिससे पाठक मंत्रमुग्ध हो गए। समापन सत्र में मालिनी अवस्थी की सुरीली आवाज में वंदे मातरम गीत गाकर हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे सत्र को समापन की घोषणा की।कार्यक्रम को सफल बनाने में डीपीएस के भूमेश अग्रवाल, विवेक अग्रवाल, प्रधानाचार्य रंजना शाही, दिनेश मानसेरा, उमंग वासुदेवा, दिनेश पांडेय राजीव वाही, अवनीश राजपाल, मनमोहन जोशी, राजीव बग्गा, आदि ने सहयोग किया ।

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments