Ad

हल्द्वानी- गांव की बेटी बनी लड़कियों के लिए प्रेरणा, 44 हफ्ते की कठोर ट्रेनिंग के बाद बनी CRPF का हिस्सा, गजब का है संघर्ष

खबर शेयर करें

लालकुआं- आज के इस दौर में बेटियां बेटों से कम नहीं, क्योंकि बेटियां कठिन परिश्रम और मेहनत से बड़ी सी बड़ी मुश्किल आसान कर देती है। और ऐसा ही कुछ कर दिखाया है लालकुआं के बिन्दुखत्ता पटेल नगर की रहने वाली एक बेटी ने, जो 44 महीनों के कठिन परिश्रम और कठोर प्रशिक्षण के बाद आज सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स यानी सीआरपीएफ का हिस्सा बनी है। विषम परिस्थितियों और बेहद गरीब परिवार से निकलकर फौज में शामिल हुई बेटी की इस उपलब्धि से न सिर्फ परिवार में खुशी का माहौल है बल्कि क्षेत्र के लोग बधाइयां दे रहे हैं।

सरकारी स्कूल से शिक्षा ग्रहण कर कठोर संघर्ष के बल पर गरीब गांव से निकलकर मध्य प्रदेश के नीमच में सीआरपीएफ के 271 में पासिंग आउट परेड का हिस्सा बनी रेनू दानू अब गांव की लड़कियों के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं है। 19 जुलाई 2021 से 19 जून 2022 तक 1 साल कठोर ट्रेनिंग लेकर आज रेनू दानू 1313 जवानों के साथ सीआरपीएफ का हिस्सा बनी। मध्यप्रदेश के नीमच में सीआरपीएफ के कैंप में 918 बेटे और 395 बेटियों ने पासिंग आउट परेड में हिस्सा लिया। बिंदुखत्ता की पटेल नगर की रहने वाली रेनू दानु के पिता प्रताप सिंह केएमओयू की बस चलाते हैं। जबकि माता दीपा देवी ग्रहणी है। निम्न मध्यम परिवार से ताल्लुक रखने वाले रेनू दानु का बड़ा भाई मनोज दानु एयर फोर्स में देश सेवा कर रहा है, जबकि छोटा भाई गोविंद घर में रहकर मां का हाथ बटाता है।

गांव की बेटी रेनू दानू की उपलब्धि पर परिजनों को गर्व की अनुभूति हो रही है साथ ही गांव में भी खुशी की लहर है कि घर से सैकड़ों किलोमीटर दूर 44 हफ्ते की कठोर ट्रेनिंग के बाद गांव की बेटी आज देश सेवा के लिए तैयार है लिहाजा लोग घर में बधाई देने आ रहे हैं।

Ad
यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) मुख्य सचिव ने तबादलों को लेकर जारी किए नए आदेश
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments