Shemford School Haldwani
एशिया के सबसे पुराने मेथोडिस्ट चर्च को ब्रिटिश काल में बनाया गया

नैनीताल- एशिया के सबसे पुराने चर्च में क्रिसमस की तैयारियां, कोरोना के चलते ऐसा रहेगा कार्यक्रम

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें

उत्तराखंड की प्रमुख पर्यटन नगरी नैनीताल जितना अपनी झीलों और प्राकृतिक सौंदर्य के लिए प्रसिद्ध है उतना ही इस शहर में ब्रिटिश काल में बने चर्चो का भी महत्व है । गौथिक शैली में बने इन चर्चों की खूबसूरती देखते ही बनती है । नैनीताल में क्रिस्टमस को धूमधाम से मनानेे के लिए चर्चों(गिरजा घरो) को सजाया जा रहा है। नैनीताल की मालरोड में बने एशिया के सबसे पुराने मेथोडिस्ट चर्च को ब्रिटिश काल में बनाया गया था । इस चर्च की स्थापना अमेरिकन पादरी विलियम बटलर ने 1858 में आयुक्त सर हेनरी रैमसे की मदद से की थी। इसके साथ ही मालरोड में स्थित दूसरा चर्च सेंट फ्रांसिस कैथलिक चर्च है, जिसे वर्ष 1868 में इटली के क्रिसचन कम्युनिटी ने बनाया था, जो लेक चर्च के नाम से भी जाना जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- जिलाधिकारी धीराज गर्ब्याल ने दो SDM के किए ट्रांसफर

यह भी पढ़ें👉 हल्द्वानी-(हद है) अब गुरु जी को ही गाली बक रहे छात्र

Kisaan Bhog Ata


वहीं नगर के पश्चिमी पहाड़ी पर बने सबसे पहले चर्च सेंट जोंस इन द विल्डरनेस की अपनी ही मान्यताए है। गॉथिक शैली से बने इस चर्च को जनता के लिए 1850 में खोल दिया गया था। 18 सितंबर 1880 को नैनीताल में हुए भूस्खलन में 151 लोगो ने जान गंवाई थी जिनकी याद में हर वर्ष क्रिस्टन समुदाय के स्कूलों द्वारा यहां प्रार्थना की जाती है। साथ ही प्रथम विश्व युद्ध में मारे गए आई.सी.एस. अधिकारियों की स्मृति चिन्ह भी इस चर्च में मौजूद है। सेंट जोंस चर्च से लगे कब्रिस्तान में जिम कॉर्बेट के माता पिता की कब्र होने से भी इस चर्च की अहमियत बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- यह मार्ग 10 दिन तक रहेगा बन्द, चलेंगे केवल ये वाहन

यह भी पढ़ें👉 नैनीताल- क्रिसमस और थर्टी फस्ट को होने वाली पार्टियों को रोकने के लिए क्या इंतजाम कर रही है सरकार ? हाईकोर्ट


सरोवर नगरी में मेथोडिस्ट चर्च और सेंट फ्रांसिस कैथोलिक चर्च की ऐतिहासिक बिल्डिंगें ठीक नैनीझील के ऊपर होने से इनका महत्वता और भी बढ़ जाता है। क्रिश्मस के दौरान पर्यटक इन धरोहरों के बारे में जानने के लिए पहुंचते हैं । चर्चों को दुल्हन की तरह सजाया गया है। क्रिशमस की पूर्व संध्या में क्रिसचन समुदाय के लोग चर्च में मोमबत्ती जलाकर प्रार्थना करते हैं। इस मौके ये लोग बड़े दिन का स्वागत प्रभु यीशू के गीत गाकर करते हैं और सभी लोगों के भले की कामना करते हैं।
चर्च के फादर हेनरी ने बताया की क्रिसमस की तैयारी एक दिसंबर से शुरू होती है जिसमें पाप स्वीकारना, अच्छे कार्यो के साथ जरूरतमंदों की सहायता करने पर बल दिया जाता है। उन्होंने बताया कि कोविद महामारी को देखते हुए 25 दिसंबर को दोपहर 12 से शाम 5 बजे तक चर्च को दर्शन के लिए बन्द किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल-(बड़ी खबर) अब अवैध कब्जेदारो को मिलेगा भूमिधरी का अधिकार, DM ने जारी किए ये निर्देश

यह भी पढ़ें👉 हल्द्वानी- (अभी-अभी)- SDO रामनगर की गाड़ी का एक्सीडेंट

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 सिग्नल एप्प से जुड़ने के लिए क्लिक करें

👉 हमारे फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 हमें ट्विटर (Twitter) पर फॉलो करें

👉 एक्सक्लूसिव वीडियो के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

अंततः अपने क्षेत्र की खबरें पाने के लिए हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments