Shemford School Haldwani
high cort uttarakhand

नैनीताल- (बड़ी खबर) हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट कंपनियों की याचिका खारिज, हाईकोर्ट ने सुनाया यह फैसला

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें

नैनीताल- उत्तराखण्ड उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार के जल विद्युत उत्पादन पर वाटर टैक्स लगाए जाने सम्बन्धी एक्ट को सही ठहराते हुए इसके खिलाफ कई हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट कम्पनियों की याचिकाओं को खारिज कर दिया है ।

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी-(बड़ी खबर) लोकसभा में सांसद अजय भट्ट ने इस धार्मिक स्थल और पर्यटन क्षेत्र को विकसित करने की उठाई मांग

Kisaan Bhog Ata


वर्ष 2016 में उच्च न्यायालय ने उक्त एक्ट के क्रियान्वयन में रोक लगाई थी । न्यायालय के इस आदेश से राज्य सरकार को राहत मिली है, लेकिन हाइड्रो पावर कम्पनियों और उत्तर प्रदेश विद्युत निगम ने इस आदेश के खिलाफ डबल बेंच में अपील करने का निर्णय लिया है । इस मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की एकलपीठ में पूर्व में ही पूरी हो चुकी थी, जबकि न्यायालय ने 12 फरवरी को ये महत्वपूर्ण फैसला सुनाया ।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट का फार्मूला तैयार

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- यहां गंदी हरकतें करते 3 महिलाओं समेत पांच लोग गिरफ्तार, ऐसे पहुची पुलिस


अधिवक्ता जितेंद्र चौधरी ने बताया कि मामले के अनुसार राज्य बनने के बाद उत्तराखण्ड सरकार ने राज्य की नदियों में जल विद्युत परियोजनाएं लगाए जाने के लिए कई कम्पनियों को आमंत्रित किया और उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश और जलविद्युत कम्पनियों के बीच करार हुआ । इसमें तय हुआ कि कुल उत्पादन की 12 प्रतिशत बिजली उत्तराखण्ड को निशुल्क दी जाएगी । जबकि शेष बिजली उत्तर प्रदेश को बेची जाएगी ।

यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- राज्य में अब 2964 एक्टिव केस, देखिए हेल्थ बुलेटिन, जाने अपने इलाके का हाल

यह भी पढ़े 👉चमोली-(बड़ी खबर)-मुख्य टनल से बरामद हुए इतने शव, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

लेकिन वर्ष 2012 में उत्तराखंड सरकार ने उत्तराखण्ड वाटर टैक्स ऑन इलैक्ट्रिसिटी जनरेशन एक्ट बनाकर जल विद्युत कम्पनियों पर वायर की क्षमतानुसार 2 से 10 पैसा प्रति यूनिट वाटर टैक्स लगा दिया । जिसे अलकनन्दा पावर प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड, टी.एच.डी.सी., एन.एच.पी.सी., स्वाति पावर प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड, भिलंगना हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट, जय प्रकाश पावर वेंचर प्राइवेट लिमिटेड आदि ने उच्च न्यायालय में चुनौती दी ।

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के छूटे विद्यार्थियों की इस तारीख से होगी परीक्षा, यहां से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां पूर्व सैनिक ने की ऐसे पत्नी की हत्या, हत्याकांड से सहमा पूरा गांव

न्यायालय ने इन याचिकाओं को खारिज करते हुए कहा कि विधायिका को इस तरह का एक्ट बनाने का अधिकार है । यह टैक्स पानी के उपयोग पर नहीं बल्कि पानी से विद्युत उत्पादन पर है, जो संवैधानिक दायरे के भीतर बनाया गया है । एकलपीठ ने याचिकाकर्ता कम्पनियों के पक्ष में 26 अप्रैल 2016 को जारी अंतरिम रिलीफ आर्डर को भी निरस्त कर दिया, जिसमें राज्य सरकार द्वारा इन कम्पनियों को विद्युत उत्पादन जलकर की करोड़ों रुपये के बकाए की वसूली के लिए नोटिस दिया था ।

यह भी पढ़े 👉चमोली- ऋषि गंगा पर बनी झील पर पहुंच गई SDRF, दिखाया झील का नजारा, खतरे की कोई बात नहीं

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments