साहित्य – लेखिका डॉ. रीना रवि मालपानी की चुनौतियों का श्रृंगार (लघुकथा)”

खबर शेयर करें -
  • “चुनौतियों का श्रृंगार (लघुकथा)”
रामजानकी को भी भगवान ने विरासत में चुनौतियों के श्रृंगार से सुशोभित किया। जन्म के पश्चात् उसे कई प्रकार की शारीरिक बीमारियों ने घेर रखा था। कहते है लड़की की सुंदरता थोड़ी ठीक-ठाक होनी चाहिए, पर भगवान ने शायद सृजन के समय इस ओर ध्यान ही नहीं दिया। अनेकों दाग-धब्बे चेहरे को कांतिहीन करने में लगे थे, पर रामजानकी अपनी माँ की दुलारी थी। माँ के स्नेह और प्रेम में रामजानकी को कहीं भी थोड़ी से भी न्यूनता परिलक्षित नहीं हुई, इसके विपरीत पिता का रवैय्या सोच से भी परे था। पिता आशिक मिजाज वाले व्यक्ति थे। पत्नी की सुंदरता तो उन्हें शुरू से ही प्रिय नहीं थी तो फिर बेटी तो उन्हें बोझ का ही भद्दा स्वरूप लगती थी। 

पिता शायद भाग्य के धनी व्यक्ति थे, पत्नी का देहांत जल्दी हो गया और आवारागर्दी की लगाम को और भी छुट मिल गई। अब तो आशिक़ी पर नया नूर सा चढ़ गया। इधर माँ के देहांत के बाद बेटी और भी अकेली हो गई। पहले माँ थी तो माँ के किसी कोने में खुद को रानी समझती थी। कुछ समय के लिए ही सही मन में प्रसन्नता के भाव तो थे। माँ के बाद घर की पूरी ज़िम्मेदारी रामजानकी पर आ गई। इसी ज़िम्मेदारी के साथ उसने शिक्षारत होने का संकल्प लिया, क्योंकि भविष्य के लिए पिता पर आश्रित होना उसे हितकर नहीं लग रहा था। इधर पिता का आशिक़ाना स्वभाव एक विधवा के साथ चक्कर में लग गया। बहुत वाद-विवाद, अपयश और बदनामी के बाद विवाह तक पहुँच गया। नई माँ भी आ गई फिर एक नई चुनौती पैर पसारे खड़े थी, पर इस चुनौती का श्रृंगार उसने अपनी नौकरी से किया। नई माँ के साथ रोज-रोज की चिक-चिक उसे अलग रहकर कुछ नवीन और बेहतर करने को प्रेरित कर रही थी और उसने वही किया। सिर्फ माँ की यादों का साया ही उसके साथ था। उसने माँ की याद में स्कूल खोलने, पुस्तक वितरित करने, कुएं खुदवाने, अस्पतालों में जरूरत का सामान वितरित करने का निर्णय लिया। उसने अपनी चुनौतियों से लड़कर दूसरे के जीवन को श्रृंगारित करने का लक्ष्य बनाया। वह परिस्थितियों के कारण इतनी मजबूत बन चुकी थी कि उसने सब कुछ अनुभव किया था। दिल का टूटना, अपनों का रूठना, इसके बावजूद भी उसने यह सीख लिया था कि सब कुछ ठीक है और सब कुछ अच्छा ही होगा। वह पूर्णतया आत्मविश्वास से परिपूरित थी।

इस लघु कथा से यह शिक्षा मिलती है कि कभी-कभी निष्ठुर चुनौतियाँ भी जीवन को सत्य से श्रृंगारित करने आती है, पर वह श्रृंगार, सोलह श्रृंगार जैसी स्त्री के तन की सुंदरता को नहीं बढ़ता बल्कि संघर्ष की सुंदरता से दूसरों के जीवन के एक छोटे से कोने में आशा और उत्साह का दीप जला सकता है। मन के अंतर्द्वंद और अंतर्विरोध से लड़कर ही दुनिया को जीता जा सकता है। याद रखना अन्तर्मन की लड़ाई ही असली जीत सुनिश्चित कर सकती है और चुनौतियों वाला श्रृंगार जीवन में निर्वहन के लिए निर्णायक भूमिका तैयार कर देता है।
लेखिका डॉ. रीना रवि मालपानी
  • लेखिका डॉ. रीना रवि मालपानी
  • कवयित्री, लेखिका एवं पूर्व व्याख्याता

डॉ. रीना ने मूलतः कार्बनिक रसायन शास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है इसके साथ ही वे साहित्य के क्षेत्र से भी जुड़ी हुई है। उन्होने 300 से अधिक कविताएं एवं 150 से अधिक लेख एवं 100 से अधिक लघुकथाएँ लगभग सभी राष्ट्रीय, सामाजिक, धार्मिक, प्रेरणादायी, जागरूकता संबंधी विषयों पर सृजित किए है।

About Post Author

Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

WP Post Author

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments