उत्तराखंड- पहली बार सौरभ रावत के बिना विजय हजारे में उतरेगा उत्तराखंड, युवा अवनीश का इंतजार फिर बढ़ा

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें

Uttarakhand Cricket news- बीते दिनों विजय हजारे टूर्नामेंट के लिए उत्तराखंड क्रिकेट टीम का चयन हुआ। क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड ने 20 सदस्यीय टीम की घोषणा की। इस बार टीम की कमान जय बिष्टा को दी गई है, जिनका प्रदर्शन बल्ले से अच्छा रहा है लेकिन हर टूर्नामेंट के बाद कप्तान बदलने की थ्योरी कइयों के समझ से परे है। इस फैसले के पीछे कुनाल चंदेला को दवाब से मुक्त करने की बात कही जा रही है ताकि वनडे में वह बतौर बल्लेबाज शानदार प्रदर्शन करें।

साल 2021-2022 सीजन के लिए उत्तराखंड क्रिकेट टीम में कई नए चहरों को मौका दिया गया है लेकिन कई अनुभवी खिलाड़ियों को नहीं चुना गया है। अवनीश सुधा और सौरभ रावत को वनडे टीम में जगह नहीं दी गई है। दोनों ही खिलाड़ियों ने इससे पहले कई यादगार पारी खेली हैं। वनडे टूर्नामेंट से पहले आयोजित हुए ट्रायल मुकाबलों में भी दोनों का प्रदर्शन अच्छा रहा था।रिकॉर्ड्स पर नजर डाले तो अवनीश सुधा 7 वनडे में 47.33 की औसत से 284 रन बना चुके हैं। उनके बल्ले से 3 फिफ्टी भी निकली है। उन्होंने अपना आखिरी मुकाबला अक्टूबर 2019 में खेला था। चंडीगढ़ के खिलाफ खेले गए मुकाबले में उन्होंने शानदार फिफ्टी जमाई थी। इसके बाद उन्हें मौका नहीं मिला। हालांकि सुधा टी-20 मुकाबलों में अपनी छाप छोड़ने में नाकामयाब रहे।

दूसरी ओर सौरभ रावत उत्तराखंड के सबसे सफल बल्लेबाजों में शामिल हैं। पिछले साल सीएयू ने उन्हें बेस्ट बल्लेबाज के सम्मान से भी नवाजा था। वनडे में सौरभ रावत के बल्ले से 38.81 की औसत से 427 रन निकले हैं। पिछले सीजन के अंतिम वनडे मैच में सौरभ रावत ने दिल्ली के खिलाफ 23 गेंदों में 44 रन बनाए थे। सौरभ उत्तराखंड के लिए एक मैच में कप्तानी भी कर चुके हैं और उन्हें साल 2019 सीजन में वनडे का उपकप्तान भी नियुक्त किया गया था। दोनों ही खिलाड़ियों के टीम से बाहर होने का कारण टी-20 में खराब प्रदर्शन है हालांकि वनडे टीम के चयन से पहले हुए ट्रायल मुकाबले में प्रदर्शन अच्छा था। वनडे में दोनों ही खिलाड़ियों का औसत अच्छा था और ऐसे में टीम उनका अच्छा इस्तेमाल ले सकती थी। टीम में उन खिलाड़ियों को जगह मिली जिनका प्रदर्शन दोनों के मुकाबले खास नहीं रहा, जो काफी चौकाता है।

सीएयू की मानें तो दोनों खिलाड़ी भविष्य की नीतियों में शामिल हैं। मौजूदा टूर्नामेंट में कुछ प्रयोग करने की कोशिश की गई है, इसलिए कप्तानी की जिम्मेदारी जयबिष्टा को दी गई है। बता दें कि पीयूश जोशी और विजय जेठी को भी वनडे टीम में जगह नही मिली है। देखना दिलचस्प होगा कि क्या सीएयू का ये प्रयोग सफल हो पाता है या नहीं…

Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments