नैनीताल- अगले 48 घंटे टेंशन वाले हालात, भारी बारिश की चेतावनी, अब तक आम जनजीवन अस्त व्यस्त

खबर शेयर करें -

नैनीताल- मानसून के पहली बरसात में ही पहाड़ से लेकर मैदान तक नदियों में पानी और भूस्खलन देखने को मिल रहा है । भारी बरसात और भूस्खलन के चलते अगले 48 घंटे और ज्यादा संवेदनशील बताये जा रहे हैं। पहली बरसात में सबसे ज्यादा मुसीबत पहाड़ी क्षेत्रों को उठाना पड़ रहा है । नैनीताल में 2 दिनों से हो रही बरसात के बाद प्रशासन अब अलर्ट पर है। नैनीताल में कई जगह पर भूस्खलन के बाद खतरे को भांप प्रशासन ने ठंडी सड़क पर आवाजाही प्रतिबंधित कर दिया है। बुधवार दोपहर पाषाण देवी मंदिर के समीप ठंडी सड़क की पहाड़ी से बड़ा बोल्डर सड़क पर आ गिरा। इससे राहगीरों में दहशत पैदा हो गई।

पहाड़ी में भूस्खलन की आशंका को देखते हुए जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने ठंडी सड़क को अग्रिम आदेशों तक पैदल आवाजाही के लिए प्रतिबंधित कर दिया है।
पिछले साल बरसात में इस पहाड़ी में जबरदस्त भूस्खलन हुआ था जिसके चलते डीएसबी परिसर का छात्रावास खतरे की जद में आ गया था। बरसात खत्म होने के बाद जिला प्रशासन ने लाखों रुपये खर्च कर पहाड़ी का अस्थाई ट्रीटमेंट किया लेकिन वह भी बाद में हुई बारिश की भेंट चढ़ गया। तब लगभग छह माह तक ठंडी सड़क में पैदल आवाजाही पूरी तरह से बंद रही थी। बुधवार को इस क्षतिग्रस्त पहाड़ी में फिर से भूस्खलन हुआ और एक बोल्डर सड़क तक आ पहुंचा। बोल्डर के गिरने से पहाड़ी के निचले हिस्से में लगाई गई सुरक्षा जाली भी क्षतिग्रस्त हो गई।

पहाड़ी में हो रहे भूस्खलन के चलते डीएसबी परिसर का छात्रावास फिर से खतरे की जद में है। जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने बताया कि क्षतिग्रस्त पहाड़ी में भूस्खलन की आशंका और जानमाल की सुरक्षा को देखते हुए अग्रिम आदेशों तक ठंडी सड़क में आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- संविदा पर नौकरी अब घर बैठे मिलेगी, ऐसे कराना होगा पंजीकरण
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- टैक्सी मैक्सी, सवारी कार, ओटो विक्रम, ई रिक्शा ट्रक, सब रहेंगे चक्का जाम में

पहाड़ों पर हुई बारिश से नंधौर नदी उफान पर आ गई है। नंधौर की बाढ़ से क्षेत्र को बचाने के किया गया डायवर्जन कार्य भी बह गया, जिससे नदी का रुख चोरगलिया क्षेत्र की ओर हो गया है। नंधौर नदी ने दुबेलभीडा, आमखेड़ा गांव में भू कटाव शुरू कर दिया है। जिससे ग्रामीणों में दहशत बनी है। वन क्षेत्राधिकारी नंधौर सुनील कुमार ने कहा कि पानी कम होने पर पुन: डायवर्जन कराया जाएगा। समाजसेवी भुवन पोखरिया ने कहा कि नंधौर का पूरा रूख चोरगलिया क्षेत्र की ओर है जिससे दर्जनों गांव बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) नंदा गौरा योजना को लेकर बड़ी अपडेट

About Post Author

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

WP Post Author

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments