Shemford School Haldwani
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के मीडिया सलाहकार

देहरादून-पिछले डेढ़ महीने से पत्रकारों और सरकार के बीच तालमेल बनाने के कार्य में लगे थे मानसेरा

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें

देहरादून- उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के मीडिया सलाहकार के रूप में पिछले 25 सालों से पत्रकारिता क्षेत्र में अलग-अलग अखबारों व टीवी मीडिया में काम कर चुके वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मानसेरा को अब चुना गया, लेकिन वह तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने के बाद ही टीम तीरथ का हिस्सा बन चुके थे। जानकारी के मुताबिक दिनेश मानसेरा को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करीब डेढ़ महीने पहले ही अपनी टीम का हिस्सा बना लिया था, सूचना विभाग की कार्यशैली में बदलाव, सूचना महानिदेशक मेहरबान सिंह का जाना, रणवीर सिंह चौहान का आना उसके बाद मुख्यमंत्री और पत्रकारों के बीच तालमेल को वरीयता, कोविड वैक्सीन का पत्रकारों को भी लगाना जैसे विषय तय करने में साथ ही कोविड प्रभावित पत्रकारों से सूचना महानिदेशक की दूरभाष पर बातचीत के सुझाव को भी मीडिया परिवार ने सराहाउत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के मीडिया सलाहकार के रूप में पिछले 25 सालों से पत्रकारिता क्षेत्र में अलग-अलग अखबारों व टीवी मीडिया में काम कर चुके वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मानसेरा को अब चुना गया, लेकिन वह तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने के बाद ही टीम तीरथ का हिस्सा बन चुके थे।

यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- BJP आलाकमान ने उत्तराखंड की महिला नेत्री दीप्ति रावत को दी यह बड़ी जिम्मेदारी

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- इस विभाग में भर्ती के लिए इंटरव्यू शुरू, वेतन 90 हजार से डेढ़ लाख तक

Kisaan Bhog Ata

अब सवाल उठता है कि दिनेश मानसेरा की एंट्री तीरथ सिंह रावत की किचन कैबिनेट में एंट्री कैसे हुई, इसके कई पहलू है एक तो ये की तीरथ सिंह रावत, दिनेश मानसेरा  को व्यक्तिगत रूप से पिछले 25 सालों से जानते थे, जब वे बीजेपी के कुमाऊं क्षेत्र के मीडिया प्रभारी थे,  दूसरा संघ परिवार के दरवाजे से उनकी एंट्री हुई, खबर ये भी थी कि दिनेश मानसेरा की एंट्री त्रिवेन्द्र सरकार के समय ही होजानी चाहिए थी, परंतु उस दौरान दिल्ली हाई कमान से अचानक रमेश भट्ट की एंट्री होगयी और दिनेश मानसेरा का नाम एक किनारे रख दिया गया, दिनेश मानसेरा बेशक एनडीटीवी में अपना कैरियर संभाले हुए थे, लेकिन अपनी विचारधारा को अपने प्रोफेशन में कभी हावी नही होने दिया । वे खबर को खबर की तरह देखते रहे और यही वजह थी कि उन्होंने पत्रकारिता में अपना नाम और साख को बनाये रखा। वो स्वतंत्र रूप से राष्ट्रवादी लेखन भी करते रहे। पांचजन्य और अन्य पत्रों में वो बेबाक लिखते रहे, साथ ही सोशल मीडिया में सहीं को सही गलत को गलत कहने में हमेशा आगे रहे ।

यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- 14 घण्टे में वैक्सीनेशन का बना नया रिकॉर्ड, इन देशों को छोड़ा पीछे
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां पूर्व सैनिक ने की ऐसे पत्नी की हत्या, हत्याकांड से सहमा पूरा गांव

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- अगले 48 घंटे बेहद भारी, रेड अलर्ट जारी, जानिए क्यों रहना है सावधान

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- इस गांव में ग्रामीणों की जागरूकता से कोरोना की नो एंट्री, इनसे सीखने की जरूरत

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments