Shemford School Haldwani
आग बुझाने के लिए दस हजार वन प्रहरी होंगे नियुक्त

देहरादून- (बड़ी खबर) आग बुझाने के लिए दस हजार वन प्रहरी होंगे नियुक्त, इतना मिलेगा वेतन, CM तीरथ ने लिया बढ़ा फैसला

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें

देहरादून- तीरथ सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए उत्त्तराखण्ड के वनों में लगने वाली आग को बुझाने के लिए स्थानीय ग्रामीण महिलाओं की भागीदारी दी है। प्रदेश में 10 हजार वन प्रहरियों की नियुक्ति की जाएगी। इनमें 5 हजार महिलाएं भी वन प्रहरी के तौर पर काम करेंगी। इन वन प्रहरियों को सात हजार मासिक मानदेय दिया जाएगा।

यह भी पढ़े 👉नैनीताल- अजब प्रेम की गजब कहानी, दो बच्चों की मां के साथ रहना चाहता है तीन बच्चों का पिता

Kisaan Bhog Ata

सचिवालय में आयोजित बैठक में वनाग्नि प्रबंधन की तैयारियों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वन पंचायतों और स्थानीय लोगों की सहभागिता बहुत जरूरी है। स्थानीय लोगों के हक हकूक का समय से वितरण किया जाए। वन, पुलिस,राजस्व व अन्य संबंधित विभागों में पूरा समन्वय हो। जिलाधिकारी नियमित रूप से वनाग्नि प्रबंधन की समीक्षा करें और ये सुनिश्चित करें कि आवश्यक मानव संसाधन, उपकरण आदि उपलब्ध हों। यदि कोई समस्या हो तो शासन को अवगत कराएं। वनाग्नि प्रबंधन संबंधी कार्यों में 5 हजार महिलाओं की सक्रिय भागीदारी की योजना बनाई जाए। फोरेस्ट फायर कन्जरवेंसी सिस्टम को विकसित कर आमजन में व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां महिला चला रही थी सैक्स रैकेट का धंधा, इस हाल में मिले छह लोग, आपत्तिजनक सामान भी बरामद

यह भी पढ़े 👉नैनीताल-(बड़ी खबर) एलटी के सहायक अध्यापक भर्ती को लेकर हाईकोर्ट से नया अपडेट

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां बाइक की सीट के नीचे निकला कोबरा नाग, बाइक सवार के फूले हाथ पैर, Video

मुख्यमंत्री ने वनाग्नि प्रबंधन के लिए की गई तैयारियों के संबंध में वीडियो कान्फ्रेंसिंग द्वारा जिलाधिकारियों से भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जानबूझकर आग लगाने वालों को चिन्हित किया जाए। वनाग्नि के कारण जो भी क्षति होती है, उसमें आपदा के मानकों के अनुसार तत्काल राहत राशि प्रदान की जाए। पिरूल एकत्रण का भुगतान समय से हो। इसके लिए प्रभावी मैकेनिज्म बना लिया जाए।

यह भी पढ़े 👉देहरादून- CM तीरथ रावत ने इस हाइवे को तत्काल बंद करने के दिए निर्देश

बैठक में बताया गया कि प्रतिवर्ष लगभग 36 हजार हैक्टेयर वन क्षेत्र में वनाग्नि शमन के लिए जरूरी नियंत्रित दाहन किया जाता है। लगभग 2700 किमी फायर लाईनों का रखरखाव किया जाता है। स्थानीय निवासियों से प्रतिवर्ष लगभग 7000 फायर वाचर अग्निकाल में लगाए जाते हैं। 40 मास्टर कंट्रोल रूम, 1317 कू्र स्टेशन और 174 वाच टावर स्थापित हैं। जिला फायर समितियों की बैठक कर ली गई हैं।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) 41 दरोगाओं के तबादले, देखिए किसे कहाँ मिली जिम्मेदारी

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- करोड़ों रुपए का कारोबार प्रभावित, यह है कारण

बैठक में मुख्य सचिव ओमप्रकाश, प्रमुख सचिव आनंदबर्द्धन, सचिव अमित नेगी, नीतेश झा, प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी, सहित वन विभाग के अधिकारी, मंडलायुक्त और जिलाधिकारी उपस्थित थे।  

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments