Shemford School Haldwani

पहाड़ की औरतें

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें

अपने दर्द -जख्म और आसुओं को
समेट लेती है अपने अन्तरस में उसी तरह
ज्यूं बाँज उत्तीस फ्ल्याँट सहेज कर रखते है
अपनी जड़ों में बरसात का पानी
लेकिन पहाड़ की औरतें
साझा करती है सुख के पल सामूहिकता में
भिटौली के बताशों की तरह
या कदमताल में गाते हुए कोई नया झोड़ा
इसी जज्बे से जीवित है जलस्रोत पहाड़ के
ऐसे ही खिलते है बसंत के फूल…..भाग 1………

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments