Shemford School Haldwani
पहाड़ में ऐसे कराया कोरोना पॉजिटिव गर्भवती का सफल प्रसव

उत्तराखंड- ये डॉक्टर नहीं भगवान है, पहाड़ में ऐसे कराया कोरोना पॉजिटिव गर्भवती का सफल प्रसव

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें
  • 171
    Shares

अल्मोड़ा- कोरोना ने क्या-क्या दिखा दिया है। अभी तक आपने पढ़ा होगा पीपीई किट में दूल्हा-दुल्हन ने शादी की, लेकिन अब हालात ऐसे बन गये है कि पीपीई किट पहनकर प्रसव तक कराना पड़ा। जिसके बाद जच्चा और बच्चा दोनों की स्थिति ठीक होने पर चिकित्सकों ने राहत की सांस ली। वहीं बच्चे की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने से परिजन की आंख भर आयी। आगे पढिये…

यह भी पढ़ें 👉हल्द्वानी- (हद है) यहां जान आफत में है और वो कर्फ्यू में बिरयानी बेच रहे, पहुची पुलिस तो….

Kisaan Bhog Ata

शुक्रवार सुबह अल्मोड़ा जिले के विकासखंड के भैंसिया छाना के बकरेटी गांव की सरिता देवी पत्नी राजेंद्र सिंह को तेज बुखार के साथ प्रसव पीड़ा शुरू हुई। ऐसे में परिजना उसे आनन-फानन में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धौलछीना ले गये। यहां डा. संजीव शुक्ला ने महिला का स्वास्थ्य परीक्षण किया तो महिला काफी तेज बुखार में तप रही थी। इसके बाद महिला की कोरोना जांच की गई तो रैपिड टेस्ट वह कोरोना पॉजिटिव निकली। अब रिपोर्ट के बाद परिजना और स्वास्थ्यकर्मी भी घबरा गये। आगे पढिये…

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- सुशीला तिवारी में मरीजों के मोबाइल चुराती थी सफाई कर्मी, ऐसे खुला राज

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- कुमाऊं में यहां मिला ब्लैक फंगस का संदिग्ध मरीज, पहाड़ से मरीज हल्द्वानी रेफर

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- कल से क्या कहता है मौसम का मिजाज जान लो, नही तो होगी परेशानी

इस बीच प्रसव की पीड़ा अंतिम चरण पर पहुंच चुकी थी। ऐसे में चिकित्सकों ने उसे हायर सेंटर रेफर करने के बजाय पीपीई किट पहन कर प्रसव कराने की निर्णय लिया। क्योंकि अल्मोड़ा वहां से 30 किमी दूर था। ऐसे में चिकित्सक महिला की जान जोखिम में नहीं डाल सकते थे।

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- पांच दिन बाद थी बड़े भाई की शादी, और छोटे भाई ने उठा लिया आत्मघाती कदम, खुशियों के बीच छाया मातम

इसके बाद डॉ. शुक्ला, नेहा रावत, स्टाफ नर्स राधा मेहरा और एएनएम कमला सुपियाल ने महिला का प्रसव कराया महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। अब बच्चे का कोरोना टेस्ट कराया गया तो उसकी रिपोर्ट निगेटिव आयी। परिजनों और डॉक्टरों ने राहत की सांस ली। चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे को 10 दिन तक मां से अलग रखा जाएगा। मां के कोरोना पॉजिटिव होने के कारण मां का दूध न देकर परिवार के अन्य महिला या फिर लेक्टोजन का दूध दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: पॉलीटैक्निक और बीकॉम के छात्र ऐसे करते थे पहाड़ में नशे का कारोबार

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- (चिंताजनक) पिछले 10 दिन में एक हजार बच्चे कोरोना की चपेट में, देखिए आंकड़े

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

1 Comment
Inline Feedbacks
View all comments