Shemford School Haldwani
high cort uttarakhand

नैनीताल- प्राइवेट स्कूलों की फीस के मामले में हाईकोर्ट से बड़ा अपडेट , जानिए एक क्लिक में

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें
  • 106
    Shares

नैनीताल- उत्तराखंड उच्च न्यायालय को राज्य सरकार ने कोरोना काल में प्राइवेट स्कूलों के फीस ना लेने के मामले में बताया कि सरकार ने कक्षा 6 से 8, 9वीं और 11वीं की कक्षाओं में पढ़ने वाले बच्चो से फीस लेने का आदेश जारी कर दिया है। राज्य सरकार द्वारा लॉक डाउन के दौरान इन कक्षाओं के बच्चों से केवल ट्यूशन फीस लेने का आदेश दिया गया था। न्यायालय ने मामले को सुनने के बाद सभी याचिकाओं को निस्तारित कर दिया है। पिछली तिथि को याचिकाकर्ताओ ने न्यायालय में कहा था कि 15 जनवरी को सरकार ने एक जी.ओ. जारी कर 10वीं और 12वीं की कक्षा खोलने का आदेश दिया था, साथ में यह भी कहा था कि उनसे फीस ले सकते हैं । परन्तु 4 फरवरी को सरकार ने फिर एक जी.ओ.जारी कर 6 से 8 और 9वीं और 11वीं की कक्षाएं खोलने का आदेश दिया । इस जी.ओ.में कहीं भी यह जिक्र नहीं था कि इन कक्षाओं के छात्रों से फीस लें। न्यायालय ने इसपर पूर्व में सरकार से आजतक स्थिति स्पष्ठ करने को कहा था। पूर्व के आदेश के क्रम में आज सरकार की ओर से स्थिति स्पष्ठ करते हुए कहा गया कि निजी स्कूलों को फीस लेने की अनुमति सरकार ने दे दी है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां पूर्व सैनिक ने की ऐसे पत्नी की हत्या, हत्याकांड से सहमा पूरा गांव

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- लोकसभा सदन में उठा पर्वतीय क्षेत्रों में मोबाइल टावर का मुद्दा, इस सांसद ने पहुंचाई पहाड़ की पीड़ा

Kisaan Bhog Ata


मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश आर.एस.चौहान और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खण्डपीठ में हुई। मामले के अनुसार, उधम सिंह नगर एसोसिएशन ऑफ इंडिपेंडेंट स्कूलों द्वारा याचिका दायर कर कहा गया था कि राज्य सरकार ने 22 जून 2020 को एक आदेश जारी कर कहा था कि लॉक डाउन में प्राइवेट स्कूल किसी भी बच्चे का नाम स्कूल से नही काटेंगे और उनसे ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस नही लेंगे, जिसे प्राइवेट स्कूलों ने स्वीकार भी किया लेकिन एक सितम्बर 2020 को सी.बी.एस.ई.बोर्ड ने सभी प्राइवेट स्कूलों को एक नोटिस जारी कर कहा था कि बोर्ड से संचालित सभी स्कूल 10 हजार रुपये स्पोर्ट फीस, 10 हजार रुपये टीचर ट्रेनिंग फीस और ₹300/= रुपये प्रत्येक बच्चे के रजिस्ट्रेशन पर बोर्ड को 4 नवम्बर से पहले देंगे । अगर 4 नवम्बर तक फीस भुगतान नही की जाती है तो ₹2000/= रुपये प्रत्येक बच्चे के हिसाब से पैनल्टी देनी होगी। जिसको एसोसिएशन द्वारा चुनोती दी गयी । इसके अलावा एसोसिएशन का यह भी कहना है कि न तो वे किसी बच्चे का रजिस्ट्रेशन रदद् कर सकते हैं और न ही उनसे ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस ले सकते हैं । ऊपर से सी.बी.एस.ई.बोर्ड द्वारा यह दवाब डाला जा रहा है की इसपर रोक लगाई जाए, क्योंकि इस समय न तो टीचर्स की ट्रेनिंग हो रही है और न ही कोई स्पोर्ट्स हो रहे हैं । कहा कि बोर्ड द्वारा संचालित स्कूल तो बोर्ड और राज्य के बीच मे फंस गए है, अगर वे बच्चों से ये फीस लेते है तो उनके स्कूलों का रजिस्ट्रेशन रदद् होने की संभावना है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: (Good News)-प्रदेश के करीब 23.80 लाख राशनकार्डधारकों मिलेगा ये खास फायदा, केन्द्र से मिली अनुमति
यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- BJP आलाकमान ने उत्तराखंड की महिला नेत्री दीप्ति रावत को दी यह बड़ी जिम्मेदारी

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- यहां काम कर रहा था मजदूर अचानक ऐसे मिली मौत, सदमे में परिजन

यह भी पढ़े 👉चौखुटिया-पहाड़ की प्रभा ने जर्मनी बढ़ाया उत्तराखंड का मान, जर्मनी के लोग भी हुए कायल

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- यहां ट्रक ने स्कूटी सवार को रौंदा, युवक की दर्दनाक मौत दो युवतियों घायल

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- दिल्ली में बजा देवभूमि का डंका, सोमेश्वर की हेमा और उसके बच्चों ने झटके पदक

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments