Ad
अपनी बूदो से फिर धरा को हरा श्रंगार करा दो

अपनी बूदो से फिर धरा को हरा श्रंगार करा दो

खबर शेयर करें

मेघ उमड़ रहे है नील गगन में काले काले…
बरस पड़ो अब धरा पे रिम झिम रिम झिम,
सूखे साखो को फिर से अपनी बूदो से सीच के नव जीवन दे दो,
इस धरा पे अपनी अमृत बूदो से फसलों को आबाद करा दो..
चलो फिर से मायूस चहेरो पे मुस्कान दिला दो,
रिमझिम रिमझिम वर्षा कर के,
फिर से वो बचपन के खेल याद दिला दो…
बागो मे सुने पड़े झूलो को आबाद कर दो,
रंग बिरंगी फूलो की फुलवारी की वो प्यारी सी मुस्कान से धरा पे रंग बरसा दो..
अपनी बूदो से फिर धरा को हरा श्रंगार करा दो।

Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments