Shemford School Haldwani
चमोली

(चमोली आपदा)- डॉगी की वफादारी, टनल से अपने मालिक के लौटने का इन्तेजार कर रहा ब्लैकी हटने को तैयार नहीं

Bansal Sarees & Bansal Jewellers Ad
खबर शेयर करें

चमोली जिला में आई भीषण प्राकृतिक आपदा ने पूरे देश को झनझोर कर रख दिया है। चमोली के रैणी गांव व तपोवन में बाढ़ ने कहर बरपाया है। अभी तक 36 शवों को बचाव दल ने बरामद किया है और 10 की पहचान हो गई है।

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- (हद है) रोडवेज बस में 35 यात्री बिना टिकट, 5 अधिकारी निलंबित, दो को नोटिस

Kisaan Bhog Ata

तवोपन की सुरंग में अभी भी 35 लोगों के फंसे होने की संभावना है और उन्हें बाहर निकालने के लिए ऑपरेशन पिछले चार दिन से जारी है। बता दें कि ग्लेशियर फटने की वजह से आई बाढ़ के बाद तपोवन डैम तबाह हो गया था।

यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- राज्य में एक्टिव केस 2896, और 8 लोगों की मौत, जानिए अपने इलाके का हाल

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- (चमोली हादसा) मरीन कमांडो की टीम चला रही सर्च ऑपरेशन, 168 लोग अभी भी लापता, जानिए पूरी अपडेट

वहीं एक कुत्ते की स्टोरी वायरल हो रही है जिसका नाम है ब्लैकी… जिसकी उम्र 2 साल बताई जा रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो ब्लैकी सुरंग में काम करने वालों के साथ काफी घुला मिला रहता था। वह उनके साथ खाना खाता था। प्रोजेक्ट में काम करने वाले कामगार ही ब्लैकी को देखते थे।

ब्लैकी वहीं पैदा हुआ था जहाँ एनटीपीसी (नेशनल थर्मल पॉवर कॉर्पोरेशन) हाईड्रल प्रोजेक्ट बनाया गया था। लिहाज़ा वह आस-पास काम करने वाले कामगारों के बीच हुआ बड़ा हुआ था। वह सुबह के वक्त सुरंग के पास आता था और कामगारों के साथ खेलता था। कामगारों के साथ ही वह वापस चले जाता था।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून- 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट का फार्मूला तैयार

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- SSP ने की अपराध समीक्षा, थाने चौकी इंचार्जों को दिए ये 13 निर्देश

रविवार ) को जब ब्लैकी रोज़ की तरह उसी जगह पर आया तब उसे कोई नज़र नहीं आया और तब से वह बैचेन है। प्रोजेक्ट में काम करने वाले रजिंदर कुमार ने इस बारे में बताया कि वो अपने काम के दौरान ब्लैकी को खाना देते थे, सोने के लिए बोरा भी देते थे। पूरे दिन भर ब्लैकी आस-पास ही रहता था और शाम के वक्त काम करने वालों के साथ ही निकलता था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां AUTO चालक के एकाउंट से 1 करोड़ का ट्रांजैक्शन देख पुलिस भी हैरान, जानिए क्या है पूरा मामला

यह भी पढ़े 👉GOOD NEWS- उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय को मिले इतने नए टीचर, शुरू होंगे नए पाठ्यक्रम

बचाव कार्य के दौरान सुरक्षा टीमों ने उसे वहाँ से हटाने का प्रयास किया लेकिन वह बार-बार अपनी जगह पर वापस आ जाता था। स्थानीय लोगों का कहना है कि ब्लैकी को उम्मीद है कि उसके दोस्त जल्द सुरंग से सही सलामत वापस लौटेंगे। इस घटना से एक कहावत पूरी तरह सही साबित होती है कि कुत्ते इंसानों के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं।

यह भी पढ़े 👉भीमताल- नवनियुक्त DM धीराज गब्र्याल ने ली समीक्षा बैठक, ऐसे तेजी से होंगे अब जिले में विकास कार्य

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments