उत्तराखंड- हरेला लोकपर्व, जानिए क्यों बोये जाते है इस दिन 7 तरह के बीज ?

खबर शेयर करें
  • 328
    Shares

उत्तराखंडी लोक संस्कृति का प्रमुख त्योहार है हरेला पर्व इस पर्व की शुरुआत हरेले से 9 दिन पहले होती है उत्तराखंड में धूमधाम से मनाए जाने वाले इस पर्व का बड़े उत्साह के साथ इंतजार किया जाता है उत्तराखंड की लोक परंपरा के अनुसार हर साल कर्क संक्रांति को मनाया जाता है अगर अंग्रेजी तारीख के अनुसार कहें तो यह त्यौहार हर वर्ष 16 जुलाई को मनाया जाता है लेकिन इसकी शुरुआत ठीक 9 दिन पहले शुरू होती है।

ankur motors ad

गरमपानी- 50 घंटे बाद इस हाल में मिला, कोसी नदी में बही तीसरी महिला का शव

हिंदू पंचांग के अनुसार जब सूर्य मिथुन राशि से कर्क राशि में प्रवेश करता है तो उस घड़ी को कर्क संक्रांति कहते हैं जानकारों के मुताबिक तिथि क्षय या तिथि वृद्धि के कारण यह पर्व 1 दिन आगे पीछे भी हो जाता है।

उत्तराखंड- (दुःखद खबर) यहां मासूम बच्चे को उठा ले गया गुलदार, वन्य जीवों के एक के बाद एक हमलों से दहशत में उत्तराखंड के लोग

इस पर्व के लिये पहले घरों में पूजा स्थान में किसी जगह या छोटी डलियों में मिट्टी बिछा कर सात प्रकार के बीज जैसे- गेंहूँ, जौ, मूँग, उड़द, चना, गहत, सरसों आदि बोते हैं और नौ दिनों तक उसमें जल आदि डालते हैं। बीज अंकुरित हो बढ़ने लगते हैं।

नैनीताल- जिले में अभी भी 27 हजार से अधिक लोग क्वॉरेंटाइन, हल्द्वानी के होटलों में भी ऐसे रह रहे लोग

हर दिन सांकेतिक रूप से इनकी गुड़ाई भी की जाती है और हरेले के दिन कटाई। यह सब घर के बड़े बुज़ुर्ग या पंडित करते हैं। पूजा ,नैवेद्य, आरती आदि का विधान भी होता है। कई तरह के पकवान बनते हैं।

हल्द्वानी- STH में कोरोना को 11 गंभीर मरीजों ने दी मात, अब तक 245 हुए ठीक, 130 उपचाराधीन

“जी रया जागि रया आकाश जस उच्च,
धरती जस चाकव है जया स्यावै क जस बुद्धि,
सूरज जस तराण है जौ सिल पिसी भात खाया,
जाँठि टेकि भैर जया दूब जस फैलि जया…” चावल भी सिल में पीस के खाएं…, दूब की तरह फैलो…


इस गीत का अर्थ है: “जीते रहो जागृत रहो। आकाश जैसी ऊँचाई, धरती जैसा विस्तार, सियार की सी बुद्धि, सूर्य जैसी शक्ति प्राप्त करो। आयु इतनी दीर्घ हो कि चावल भी सिल में पीस के खाएं और बाहर जाने को लाठी का सहारा लो,दूब की तरह फैलो।”

देहरादून- प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 3161,

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x