Ad
शासकीय प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल

Big Breaking : उत्तराखंड में 18 मई के बाद एक हफ्ता और बढ़ाया जा सकता है कोरोना Curfew, शासन ने दिये संकेत,

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें
  • 153
    Shares

देहरादून- कोरोना की रोकथाम के लिए प्रदेश में 18 मई के बाद 25 मई तक कर्फ्यू बढ़ाया जा सकता है। यही नहीं इस बार कुछ और सख्त प्रतिबंध लागू किए जा सकते हैं। इनमें से एक प्रस्ताव यह भी है कि शादियों में शामिल होने वाले सभी लोगों के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट निगेटिव रिपोर्ट दिखाना आवश्यक होगी।

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड: अब RT-PCR टेस्ट सभी बारातियों के लिए हुआ अनिवार्य, पढिय़े पूरी खबर…


उत्तराखंड के आज की बड़ी खबर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए तीरथ सरकार प्रदेश में जारी सख्त कोरोना कर्फ्यू को एक हफ्ता बढ़ा सकती है। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल के अनुसार सीएम से चर्चा हो चुकी है और सैद्धांतिक सहमति भी मिल चुकी है। वे कहेत हैं कि फिलहाल सरकार की प्राथमिकता कोरोना की चेन तोड़ना है। जिसके लिए कम से कम एक हफ्ता और कर्फ्यू होना चाहिए। प्रदेश में फिलवक्त जो कर्फ्यू चल रहा है वह 18 मई की सुबह 6 बजे समाप्त हो जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉हल्द्वानी-(बड़ी खबर) बाहर से जिले में आने वाले लोगों के लिए खबर, अब प्रशासन ने दिए यह कड़े निर्देश

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- (अभी-अभी) जब बर्थडे पार्टी में मच गया अचानक हड़कंप, गैस सिलेंडर में लग गई आग Video

मंत्री उनियाल का कहना है कोरोना कर्फ्यू के आदेश को सिलसिलेवार आगे बढ़ाने का फैसला हो चुका है। एक साथ लंबा कर्फ्यू लोगों को मानसिक तौर पर बेचैन करता है इसलिए इसको हफ्ता बार बढ़ाने का फैसला किया गया है। उनका मानना है कि मौजूदा कर्फ्यू के नतीजे 22-23 मई के बाद दिखाई देने शुरू होंगे। इसके बाद अगले हफ्ते भी कर्फ्यू,प्रतिबंध और रियायत को लेकर सरकार फिर से चर्चा करेगी। हालांकि अभी के हालात फिलहाल ऐसे नहीं है कि कर्फ्यू को 18 मई के बाद आगे न बढ़ाना पढ़े।

यह भी पढ़ें 👉  रेलवे ने दी राहत भरी खबर काठगोदाम से इन ट्रेनों का संचालन होगा

यह भी पढ़ें 👉हल्द्वानी- यहां जब आमा ने थाना इंचार्ज को कहा, ईजा त्यर भल हैजो

उनका कहना है कि सीएम भी मान चुके हैं कि सख्ती हो और कर्फ्यू में फिलहाल ढील न दी जाए। उनियाल ने बताया कि सरकार उन कोविड-19 अस्पतालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। जो कोरोना से हुई मौतें छुपा रहे हैं। इसके अलावा जिन निजी चिकित्सालयों में आयुष्मान और अन्य योजनाओं से आच्छादित लोगों और कर्मचारियों को या तो भर्ती नहीं किया जा रहा है या फिर कैशलेस के बजाय कैश लेकर इलाज किया जा रहा है। उनके खिलाफ भी कार्रावाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर- साहसिक यात्रा पर गए 4 पर्यटकों की मौत दो लापता, 2 टीम रवाना

यह भी पढ़ें 👉उत्तराखंड- देवभूमि की दो बेटियां टीम इंडिया में सिलेक्ट, इंग्लैंड में दिखाएंगी जलवा

Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

2 Comments
Inline Feedbacks
View all comments