उत्तराखंड- कोरोना काल के बीच यहां इन मांगों को लेकर सैकड़ो आशा वर्कर तीन दिवसीय हड़ताल पर

खबर शेयर करें
  • 49
    Shares

हल्द्वानी में सैकड़ों आशा कार्यकत्रियों ने तीन दिवसीय हड़ताल शुरू कर दी है राज्य सरकार से अपने नियमितीकरण और 21000 न्यूनतम वेतन सहित कोरोना काल में बचाव उपकरण दिए जाने सहित अन्य मांगों को लेकर आशा कार्यकत्री हड़ताल पर हैं। आशा कार्यकत्रियों ने राज्य सरकार से मांग की है कि सरकार उन्हें न्यूनतम 21000 वेतन देते हुए पुराने आशा कार्यकत्रियों को स्थाई नौकरी दें साथ ही कोरोनावायरस कोविड-19 के महामारी को खतरे को देखते हुए उन्हें बचाव उपकरण पीपीई किट मास के सैनिटाइजर सहित अन्य चीजें उपलब्ध कराई जाएं आशा कार्यकर्ताओं का कहना है कि लंबे समय से उनको बंधुआ मजदूर बनाकर काम कराया जा रहा है लिहाजा सरकार यदि जल्द उनकी मांगे पूरी नहीं करेंगी तो पूरे प्रदेश स्तर पर आशा कार्यकत्रियों द्वारा विशाल आंदोलन किया जाएगा।

ankur motors ad

BREAKING NEWS- (अभी- अभी) अब 71 नए मामले सामने आए, आंकड़ा पहुंचा 8623

तीन दिवसीय हड़ताल में शामिल होते हुए उपजिलाधिकारी हल्द्वानी के माध्यम से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर 11 सूत्रीय मांग की गई
1- आशा वर्करों को सरकारी सेवक का दर्जा और न्यूनतम 21 हजार वेतन लागू किया जाय.
2- जब तक मासिक वेतन और कर्मचारी का दर्जा नहीं मिलता तब तक आशाओं को भी अन्य स्कीम वर्कर्स की तरह मासिक मानदेय फिक्स किया जाय।
3- देय मासिक राशि और सभी मदों का बकाया सहित अद्यतन भुगतान किया जाय.
4- आशाओं के विविध भुगतानों में नीचले स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार व कमीशनखोरी पर लगाम लगायी जाय.
5- कोविड-19 कार्य में लगे सभी आशा वर्करों को पूर्ण सुरक्षा की व्यवस्था की जाय.
6- आशाओं वर्करों को 10 हजार रू० कोरोना-लॉकडाउन भत्ता भुगतान किया जाय.
7- कोविड-19 कार्य में लगी आशाओं वर्करों की 50 लाख का जीवन बीमा और 10 लाख का स्वास्थ्य बीमा लागू किया जाय
8- कोरोना ड्यूटी के क्रम में मृत आशा वर्करों के आश्रितों को 50 लाख का बीमा और 4 लाख का अनुग्रह अनुदान भुगतान किया जाय. उड़ीसा की तरह ऐसे मृत कर्मियों के आश्रित को विशेष मासिक भुगतान किया जाय.
9-आशाओं को सेवानिवृत्त होने पर पेंशन का प्रावधान किया जाय।
10- सेवा(ड्यूटी) के समय दुर्घटना, हार्ट अटैक या बीमारी होने की स्थिति में आशाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए नियम बनाया जाय और न्यूनतम दस लाख रुपये मुआवजे का प्रावधान किया जाय।
11- आशाओं के साथ सम्मानजनक व्यवहार किया जाय।

इन मांगों को लेकर तीन दिवसीय राष्ट्रीय हड़ताल में विभिन्न आशा यूनियनें संयुक्त रूप से पूरे राज्य में कार्यबहिष्कार व धरना-प्रदर्शन कर रही हैं। यूनियन ने चेतावनी दी कि यदि इन मांगों पर तत्काल कार्यवाही नहीं की गई तो हमें पूरे राज्य में अन्य आशा यूनियनों के साथ मिलकर उग्र अनिश्चिकालीन बहिष्कार व आंदोलनात्मक कार्यवाही को बाध्य होना पड़ेगा, जिसकी समस्त जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी।

हल्द्वानी- कोरोना संक्रमित की संदिग्ध मौत पर मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश, STH पर उठ रहे सवाल

धरने में रिंकी जोशी, रीना बाला, शांति शर्मा, प्रीति रावत,रेशमा, उमा दरमवाल, यशोदा बोरा, मिथिलेश, मुमताज, चम्पा मंडोला, भगवती, बीना जोशी, गंगा तिवारी, कमरुन्निशा, चम्पा मेहरा, कमला कंडारी,गीता थापा, पूनम बोरा, निशा, ममता,शाइस्ता, शकुंतला,मीनू, अनिता सक्सेना, जानकी थापा, प्रियंका, सलमा, प्रभा, शाहीन, दीपा पाण्डे, सायमा सिद्दीकी, सुनीता देवी, गंगा आर्य, अंजना, सावित्री, विमला पाण्डे, शिव कुमारी आदि बड़ी संख्या में आशा वर्कर्स मौजूद रहीं।

उत्तराखंड- इस छोटे से नगर में नगर पंचायत अध्यक्ष पति सहित 5 लोग कोरोना पोजिटिव, इलाके में टेंशन

guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x