Ad

उत्तराखंड- अगर चारधाम के करने है दर्शन तो ऐसे करें रजिस्ट्रेशन, अब तक इतने श्रद्धालु ले चुके आशीर्वाद

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें

देहरादून- उत्तराखंड चारधाम यात्रा का शनिवार से शुभारंभ हो गया है।यात्रा हेतु देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर ई पास बनने का सिलसिला जारी है। अभी तक चारधाम हेतु 42 हजार से अधिक ई पास जारी किये जा चुके है। तथा 2530 से अधिक तीर्थयात्रियों ने चारधाम के दर्शन कर लिए है। उच्च न्यायालय नैनीताल ने 16 सितंबर बृहस्पतिवार को चारधाम यात्रा को लेकर हुई सुनवाई कर यात्रा शुरू करने हेतु फैसला दिया । प्रदेश सरकार एवं देवस्थानम बोर्ड ने न्यायालय के दिशा-निर्देश के अनुसार एसओपी जारी की तथा कल 18 सितंबर से चारधाम यात्रा का शुभारंभ हो गया । चार धामों श्री बदरीनाथ, श्री केदारनाथ, श्री गंगोत्री एवं श्री यमुनोत्री धाम में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

जैसाकि विदित है श्री केदारनाथ धाम में प्रतिदिन 800( आठ सौ) श्रद्धालुओं, बद्रीनाथ धाम में 1000 ( एक हजार) गंगोत्री में 600, ( छ: सौ) यमनोत्री धाम में कुल 400 ( चार सौ) श्रृद्धालुओं को जाने की अनुमति प्रदान की गयी है।चारधाम यात्रा हेतु उत्तराखंड से बाहर के श्रृद्धालुओं हेतु देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल http://smartcitydehradun.uk.gov.in में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है तथा ई पास हेतु देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट www.devasthanam.uk.gov.in या http:// badrinah- Kedarnath.uk.gov.in प्रत्येक श्रद्धालु को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीन की डबल डोज लगी होने का सर्टिफिकेट जमा करना है। उत्तराखंड प्रदेश के लोगों को स्मार्ट सिटी पोर्टल में पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है।

उत्तराखंड के चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों में स्थित धामों होने वाली चारधाम यात्रा के दौरान आवश्यक्तानुसार पुलिस बल तैनात हो गये है। मुनिकीरेती, देवप्रयाग, टिहरी, उत्तरकाशी, बड़कोट, रूद्रप्रयाग, सोनप्रयाग, जोशीमठ, पांडुकेश्वर, सहित चारों धामों के प्रवेश मार्गो से पुलिस द्वारा तीर्थयात्रा पर नजर रखी जा रही है। धामों में‌ श्रद्धालु किसी भी कुंड में स्नान नहीं कर रहे है।तथा कोरोना प्रोटोकॉल एवं सामाजिक दूरी का पालन अनिवार्य किया गया है। गढ़वाल आयुक्त एवं उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने बताया कि आज श्री बदरीनाथ धाम हेतु 1645, श्री केदारनाथ हेतु 2160, श्री गंगोत्री हेतु 788, तथा मयुनोत्री हेतु 598 ई पास जारी हुए।

कल ओर आज तक कुल 42 हजार से अधिक ई पास जारी हुए जिनमें दिन तक श्री बदरीनाथ धाम 9989, केदारनाथ हेतु 18934, गंगोत्री हेतु 4727, यमुनोत्री हेतु 4361 ई पास जारी हो चुके है। अभी लगातार ई पास बनाए जा रहे है। चारों धामों में आज अपराह्न तक 1267 तीर्थ यात्री पहुंचे जिसमें से आज श्री बदरीनाथ धाम 368 तथा श्री केदारनाथ धाम 536 तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किये जबकि श्री गंगोत्री में 275 तथा यमुनोत्री धाम में 88 तीर्थ यात्रियों ने दिन तक दर्शन किये। जबकि कल तक कुल 1273 तीर्थयात्री चारधाम दर्शन कर चुके है। इस प्रकार अभी तक 2500 से अधिक तीर्थयात्री चारधाम के दर्शन कर चुके है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- देवभूमि के दो और वीर सपूत देश की रक्षा के खातिर शहीद, 2 दिन में चार जवान देश के लिए कुर्बान
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- देवभूमि का आज एक और लाल सीमा पर शहीद

.
चारों धामों में कोरोना बचाव मानकों का पालन करते हुए निरंतर पूजा अर्चना के साथ तीर्थ यात्री निर्धारित दूरी से दर्शन कर रहे है।।
मानक प्रचालन प्रक्रिया ( एसओपी ) के मुताबिक कोरोना बचाव मानकों एवं छ: फीट की सामाजिक दूरी का पालन करते हुए श्रद्धालु चार धामों में दर्शन कर रहे है। न्यायालय से प्राप्त निर्दशों / सरकार द्वारा जारी एसओपी के क्रम में श्रद्धालुओं को सभी निर्धारित मानकों का पालन करवाया जा रहा है। देवस्थानमों / मंदिरों के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है। ई पास, कोरोना रिपोर्ट, वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट, स्मार्टसिटी रजिस्ट्रेशन की जांच के बाद एक समय में तीन तीर्थ यात्रियों को मंदिर में प्रवेश दिया जा रहा है। दर्शन पंक्तियों में तीर्थयात्रियों को सामाजिक दूरी को बनाए रखने हेतु निर्धारित वृत्त बनाए गये है। उत्तरकाशी जिले के जिलाधिकारी मयूर दीक्षित के अनुसार श्री गंगोत्री धाम एव़ श्री यमुनोत्री धाम में तीर्थयात्रियों के आने का क्रम जारी है सभी यात्रा ब्यवस्थाओं को दुरस्त किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- (काम की खबर) शहर के इन स्कूलों के बच्चो की होगी Covid-19 जांच, जानिए DATE और टाइमिंग

Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments