Shemford School Haldwani
हर्बल कलरआपकी सेहत का भी रखेगा ध्यान

हल्द्वानी- हर्बल कलर आपकी सेहत का भी रखेगा ध्यान, होली हो तो ऐसे रंग से, जानिए खासियत

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें

हल्द्वानी- होली रंगों का त्योहार है लेकिन यह रंग आपके त्वचा और स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव ना डालें इसका ध्यान रखना आवश्यक है बाजार में केमिकल रंगों के बीच इस बार वोकल फ़ॉर लोकल की डिमांड सबसे ज्यादा है। यही वजह है कि हल्द्वानी के तीन पानी स्थित श्रद्धा महिला बाल विकास सहायता समूह इस बार हर्बल कलर बनाने के लिए दिन रात काम कर रही हैं । हर्बल कलर बनाने के तरीके के जानकर आप भी हर्बल कलर से ही होली खेलने को मजबूर हो जाएंगे क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य का मामला जो है।

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- (शर्मनाक) कलयुगी बाप ने बेटी के साथ किया घिनोना काम, आरोपी गिरप्तार

हल्द्वानी के तीन पानी स्थित श्रद्धा महिला बाल विकास स्वयं सहायता समूह की महिलाएं इन दिनों दिन-रात हर्बल गुलाल से रंगीन कलर बनाने में जुटी हुई है महिलाओं द्वारा गुलाब, गेंदा के फूल, पालक, हल्दी, चुकंदर बुरांस के फूल, अरारोट के माध्यम से हर्बल गुलाल तैयार किया जा रहा है। और इन हर्बल कलर की डिमांड अभी से उत्तराखंड के अलावा बेंगलुरु दिल्ली यूपी सहित कई शहरों से आ रही है।

यह भी पढ़े 👉हरिद्वार-(बड़ी खबर) CM तीरथ ने किया नेत्र कुंभ का शुभारंभ, हजारों लोगों को मिलेगा यह फायदा

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल- पेंशनधारियों के लिए काम की खबर, जीवन प्रमाण पत्र बनाने को लेकर हो रहा है फर्जीवाड़ा, ऐसे रहे सावधान
यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- राज्य में आज कोरोना के इतने मामले सामने आए, देखिए अपने जिले का हाल

इस स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष पुष्पा कांडपाल बताती है क्यों उनके द्वारा बनाए गए गुलाल पूरी तरह से हर्बल हैं और इनको बनाने के लिए प्राकृतिक फल और फूल व सब्जियों का इस्तेमाल किया गया है यही नहीं हर्बल कलर के रेट बाजार में रासायनिक गुलाल के रेट के बराबर ही रखे गए हैं जिससे कि लोग ज्यादा से ज्यादा हर्बल कलर का इस्तेमाल कर अपने स्वास्थ्य को रासायनिक रंगों से बचा सके।

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- NEET की परीक्षा की डेट जारी, ऐसे करे आवेदन

इसके अलावा ग्राहकों के लिए सुविधा को देखते हुए पैकिंग में 100 ग्राम 200 ग्राम और 500 ग्राम की हर्बल कलर की सुविधा भी रखी गई है होली में लोगों के त्वचा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर बनाए गए इन हर्बल रंगों से न सिर्फ कोई दुष्प्रभाव पड़ेगा बल्कि इनके रंगों की खुशबू के साथ-साथ चमक भी है जो लगाने के दौरान चेहरे पर भी देखी जा सकेगी। इन महिलाओं को आज लोकल सपोर्ट की भी जरूरत है ताकि लोगों का स्वास्थ्य सुरक्षित हो सके और इनके द्वारा बनाए गए हर्बल कलर को और अच्छा बाजार मिल सके।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- यहां बदमाशो ने व्यापारी को मारी गोली, लूट की वारदात को दिया अंजाम

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड- यहां पहले दुष्कर्म कर वीडियो बनाई, अब वायरल करने की मिली धमकी, एक्शन में आई पुलिस

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

1 Comment
Inline Feedbacks
View all comments