Shemford School Haldwani
Tirath Singh Rawat

देहरादून- उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का सफरनामा छात्र राजनीति से मुख्यमंत्री तक

Ad - Bansal Jewellers
Advertisement
खबर शेयर करें

देहरादून- उत्तराखंड के 10 वें मुख्यमंत्री के रूप में भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने विधानमंडल दल की बैठक में तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री के रूप में चुना है छात्र राजनीति से लेकर मुख्यमंत्री तक बेदाग छवि और मजबूत जनाधार से तीरथ सिंह रावत देवभूमि के मुख्यमंत्री बने हैं।

यह भी पढ़े 👉देहरादून- उत्तराखंड के सीएम के नाम पर सरप्राइस

उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के कल्जीखाल ब्लॉक के सीरों गांव के रहने वाले तीरथ सिंह रावत आज राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे गढ़वाल विश्वविद्यालय के बिड़ला परिसर से छात्र राजनीति से अपना राजनीतिक कैरियर शुरू करने वाले तीरथ सिंह रावत 1992 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर के छात्रसंघ अध्यक्ष के पद पर काबिज हुए जहां से उनका राजनीतिक सफर शुरू हुआ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- (बड़ी खबर) आज फिर स्पा सेंटर पर हुई छापेमारी, पांच लड़कियां रेस्क्यू, चार युवक और संचालक फरार, मिला यह आपत्तिजनक सामान

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- यहां युवती को फेसबुक से हुई दोस्ती, झांसा देकर 2 साल तक करता रहा दुष्कर्म, अब हुआ यह

तीरथ सिंह रावत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संगठन मंत्री से लेकर भाजयुमो के प्रदेश उपाध्यक्ष और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य की जिम्मेदारी संभालते हुए वह 1997 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य भी निर्वाचित हुए यही नहीं जब राज्य अलग हुआ तो तीरथ सिंह रावत इस अंतरिम सरकार में उत्तराखंड के पहले शिक्षा मंत्री भी बने और 2007 में भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें प्रदेश महामंत्री और प्रदेश सदस्यता प्रमुख के साथ-साथ आपदा प्रबंधन सलाहकार समिति के अध्यक्ष के पद पर भी सुशोभित किया।

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी- यहां 6 सालों से युवक कर रहा था कुकर्म, ऐसे खुली घिनौनी वारदात

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी- टायर चोर के बाद अब दिनदहाड़े बाइक चोरी करने वाला चोर भी CCTV में कैद, देखिए कैसे हो रही आपके शहर में चोरी

जनप्रतिनिधि की राजनीति तीरथ सिंह रावत की वर्ष 2012 में विधानसभा चौहट्टा खाल से विधायक चुने जाने के बाद शुरू हुई और 2013 में ही उनको उत्तराखंड के भाजपा की कमान मिल गई वह भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बने और 2017 में उन्हें राष्ट्रीय सचिव बनाया गया इसके अलावा राम जन्मभूमि आंदोलन में 2 महीने तक जेल में रहे तीरथ सिंह रावत ने उत्तराखंड राज्य आंदोलन में भी अपनी भूमिका निभाई और 2019 में पौड़ी गढ़वाल सीट से लोकसभा चुनाव में तीरथ सिंह रावत को टिकट दिया गया जिसमें वह भारी मतों से जीतकर लोकसभा सांसद बने।

यह भी पढ़े 👉उत्तराखंड के इस वरिष्ठ PCS अधिकारी की तीसरी पुस्तक जल्द पाठकों के बीच, पहले दो पुस्तकें रही है सुर्खियों में

उत्तराखंड के 10 वें मुख्यमंत्री के रूप में घोषणा होते ही उनके पैतृक घर और गांव में खुशी का माहौल है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बनने तक तीरथ सिंह रावत का सफर काफी संघर्षशील रहा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- पहाड़ से गिरा पत्थर तो SUV गाड़ी का बन गया कचुमर, बमुश्किल पुलिस ने किया रेस्क्यू

यह भी पढ़े 👉उत्तराखण्ड का एक मात्र मन्दिर जहाँ देवी पूजी जाती है,आमा के रुप में

मुख्यमंत्री के लिए नाम की घोषणा होने के बाद भाजपा दफ्तर में पत्रकारों से बात करते हुए तीरथ सिंह रावत भाग दिखाई दिए उन्होंने कहा कि उन्हें जो जिम्मेदारी मिली है उसे पूरी तरह निभाने की कोशिश करेंगे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जो काम किए हैं उन्हें आगे बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा और प्रदेश की भलाई के लिए वह दिन रात काम करेंगे।

यह भी पढ़े 👉हल्द्वानी-सोशल मीडिया पर वायरल हुई महेश कुमार की पिंक साड़ी, पहली बार आया अनोखा उत्तराखंडी गीत

Ad - Shakti Tiwari 15 Aug_compressed
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

2 Comments
Inline Feedbacks
View all comments