हल्द्वानी- साहित्य के महोत्सव में लेखकों का तड़का, लिटरेचर फेस्ट में शामिल हुए देश के नामी पत्रकार

खबर शेयर करें -

हल्द्वानी में दो दिवसीय लिटरेचर फेस्टिवल का शुभारंभ हो गया है । डीपीएस के ऑडिटोरियम में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही पद्मश्री डा. यशोधर मठपाल ने हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल का शुभारंभ किया । लिटरेचर फेस्टिवल के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वीडियो संदेश भेजकर शुभकामनाएं प्रेषित की । इस लिटरेचर फेस्टिवल में देश के कई प्रख्यात लेखक उपन्यासकार प्रतिभाग करने पहुंचे हैं ।

अगले 2 दिनों तक हल्द्वानी में चलने वाले साहित्य के उत्सव में 40 से अधिक कथाकार उपन्यासकार लेखक प्रतिभाग करेंगे । एथिकल हैकर अंशुल सक्सेना लोगों को साईंबर वार और नेशनल सिक्योरिटी से जुड़े कई महत्वपूर्ण विषयों की जानकारी दी । इसके पश्चात पद्मश्री यशोधर मठपाल ने पुरातत्व के बारे में भारतीय इतिहास को समझाया ।

लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन पहले सत्र “सोशल मीडिया का बदलता स्वरूप” अंशुल सक्सेना और वैभव पांडे ने वर्तमान समय के हालातों में सोशल मीडिया और उनकी चुनौतियों पर चर्चा की । जिसके पश्चात “कुछ चर्चा किताबों की” में वरिष्ठ पीसीएस अधिकारी ललित मोहन रयाल, लेखक डॉ चंद्रशेखर जोशी और पुलिस क्षेत्राधिकारी प्रमोद साह ने कहानी उपन्यास और गद्य पर विस्तार से चर्चा की । जिसके पश्चात “भारतीय इतिहास और विवाद” सत्र में लेखक सबरीश पीए और लेखक शांतनु गुप्ता के साथ पंचजन्य के संपादक हितेश शंकर ने किया । जिसमें भारतीय इतिहास और उसके साथ जुड़े विवादों को लेकर खुलकर चर्चा की ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड -(दुखद) आखिर कब रुकेगा यह सिलसिला, 13 वर्षीय किशोर को गुलदार ने मार डाला


लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन उपन्यास और महिलाओं का दर्द सत्र में लेखक मंजू पांडे उदिता, लेखक कंचन पंत और मंजरी बलुटिया, समाज में महिलाओं के दर्द को साहित्य और उपन्यास में लिखकर उनके प्रति सोच बदलने पर चर्चा की । जिसके पश्चात आज के दौर का मीडिया सत्र में न्यूज़ एंकर अनुराग पुनेठा दैनिक जागरण के संपादक आशुतोष सिंह, न्यूज़ एंकर प्रीति बिष्ट और पंचजन्य के सोशल मीडिया संपादक अंबुज द्वारा आज के दौर में मीडिया की प्रतिष्ठा के ऊपर उठ रहे सवालों को लेकर गंभीर चर्चा की ।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) सभी कॉमर्शियल वाहनों के चक्का जाम के चलते अब सभी जिलों के DM को मिले यह निर्देश


जिसके पश्चात कुमाऊं का साहित्य और लेखक विषय पर प्रसिद्ध कथाकार और लेखक लक्ष्मण सिंह विद्रोही लेखक मनोज पांडे और पहाड़ी संस्कृति को बढ़ावा दे रहे हेम पन्त द्वारा कुमाऊनी के इतिहास और साहित्य और उस पर लिखे गए लेखन पर विस्तार से चर्चा की । साथ ही लेखक मनोज पांडे द्वारा एक रूसी यात्री कुमाऊ में का भी प्रेजेंटेशन दिया गया । जिसके पश्चात “डिजिटल और साहित्य” सत्र में पुस्तकों के डिजिटलाइजेशन को लेकर बुक वर्ल्ड के संचालक व प्रकाशक रणधीर अरोरा दैनिक जागरण के वरिष्ठ पत्रकार गणेश जोशी और लेखक शैलेंद्र प्रताप सिंह ने किताबों के डिजिटाइजेशन को लेकर विस्तार से चर्चा की । जिसके पश्चात “युवा और साहित्य” सत्र में प्रख्यात लेखक महेश दत्त और शिक्षाविद मनमोहन जोशी ने विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए युवाओं के बीच में साहित्य की रोशनी को लेकर व्यापक प्रकाश डाला ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानीः नहर में मिली अज्ञात युवक की लाश, इलाके में फैली सनसनी…


मंच पर संचालन स्वाति कपूर व प्रीति बिष्ट ने किया ।
कार्यक्रम को सफल बनाने में दिनेश मानसेरा, भूमेश अग्रवाल, विवेक अग्रवाल, डीपीएस की प्रधानाचार्य रंजना साही, अवनीश राजपाल, दिनेश पांडे, राजीव वाही, उमंग वासुदेवा, राजीव बग्गा, मनमोहन जोशी, अर्पिता जोशी, हिमानी मेर, मनीषा शाह, आदि ने योगदान दिया ।

About Post Author

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

WP Post Author

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments