उत्तराखंड- कनाडा कनेक्शन वाले हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, हत्याकांड की इनसाइड स्टोरी

खबर शेयर करें -

काशीपुर – उधम सिंह नगर जनपद के कुंडेश्वरी चौकी क्षेत्र में हुई खनन व्यवसाई की हत्या कांड से पुलिस ने प्रदा उठा दिया है। एसओजी और काशीपुर थाना पुलिस ने हत्या कांड को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है जबकि चार आरोपी अभी भी फरार चल रहे है। डीआईजी ने टीम को 50 हजार रुपए इनाम देने की घोषणा की है। पुलिस के मुताबिक 13 अक्तूबर की सुबह महल सिंह घर के बाहर अखबार पढ़ रहे थे तभी दो शूटर द्वारा महल सिंह पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी। जिसमे महल सिंह की मौके पर मौत हो गई। परिजनो की तहरीर पर अभियोग पंजीकृत कर एसएसपी द्वारा आरोपियों की धरपकड़ के लिए कई टीम का गठन किया गया था। जांच के दौरान पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे थे। जिसके बाद पुलिस टीम ने हत्या कांड में सामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। परिजनो ने हत्या करने को लेकर स्टोन क्रेशर का विवाद बताया था। हत्या कांड से पूर्व उनके एक पाटनर केनेडा निवासी हरजीत सिंह द्वारा जान से मारने की धमकी दी थी।

जांच के दौरान हाथ चढ़ा था एक आरोपी
महल सिंह की हत्या कांड के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया था। मामले में एसएसपी ने तत्काल मौके पर पहुंच कर टीम गठित कर आरोपियों की धरपकड़ शुरू कर दी थी। सीसीटीवी का अवलोकन करने पर टीम को अहम सुराग हाथ लगे थे। जांच के दौरान मुखबिर द्वारा सूचना दी की हत्या कांड में सामिल एक आरोपी पन्नू जो गुलजारपुर का रहने वाला है। आज एकता स्टोर केशर की तरफ बंजारी गेट के पास जंगल में छिपकर पुलिस के डर से कहीं भागने की फिराक में है। जिसके बाद टीम द्वारा रात्रि करीब ढाई बजे रोकने के लिये इशारा किया तो अभियुक्त के द्वारा पुलिस पार्टी पर जान से मारने की नियत से फायर झोंक दिया जिसके बाद आरोपी को टीम द्वारा चतुराई से गिरफ्तार किया गया। आरोपी से एक अदद पिस्टल तथा 08 जिन्दा तथा पुलिस पार्टी पर फायर किये 02 खोखा राउण्ड कारतूसों के साथ गिरफ्तार किया गया ।

पन्नू ने खोले महल सिंह के हत्या कांड के राज
महल सिंह हत्या कांड में सामिल आरोपी पन्नू ने पुलिस पूछताछ में जब अपना मुंह खोला तो पुलिस के पैरो तले जमीन खिसक गई। आरोपी ने बताया की वर्ष 2015 से 2020 तक वह एकता स्टोन क्रेशर पर बतौर मुंशी कार्य करता था । स्टोन केशर में महल सिंह, सुखवन्त सिंह व उसका भाई हरजीत उर्फ काले व जगप्रीत सिंह पार्टनर थें करीब दो वर्ष पूर्व हरजीत काले, महल सिंह व सुखवंत सिंह के बीच आपस में पार्टनरशिप को लेकर विवाद हो गया। हरजीत सिंह उर्फ काले उक्त स्टोन क्रेशर में जबरजस्ती हिस्सेदारी चाहता था परन्तु महल सिंह उपरोक्त के दबाब में नहीं आ रहा था जिस कारण हरजीत उर्फ काले, महल सिंह से दुश्मनी रखने लगा था। अभियुक्त हरजीत उर्फ काले तथा प्रभजोत उर्फ पन्नू स्वयं भी स्टोन क्रेशर खोलना चाहते थे जिसका मृतक महल सिंह विरोध कर रहा था अभियुक्त हरजीत सिंह उर्फ काले एंव उसके भाई सुखवंत सिंह के बीच पंचायत के माध्यम से विवाद सुलझाया गया लेकिन काले संतुष्ठ नहीं था जिस कारण हरजीत सिंह, महल सिंह से ओर अधिक दुश्मनी रखने लगा। जिसके बाद आरोपी हरजीत सिंह ने पन्नू के साथ मिल कर महल सिंह की हत्या की योजना बनाई गई।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-(बड़ी खबर) आपदा प्रबंधन विभाग ने 4 जिलों में हिमस्खलन की खबरों को लेकर दिया UPDATE
यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(बड़ी खबर) एक्शन में दिखे DGP, एक सस्पेंड, CO खुद लिखेंगे अपना क्राइम रजिस्टर

सिगनल एप से होती थी आरोपियों के बीच बातचीत
आरोपी पन्नू ने बताया की साजिसकर्ता हरजीत सिंह के द्वारा मुझसे सिगनल एप के माध्यम से महल सिंह की हत्या करने के लिये अपने पास कारतूस व वैपन दिये तथा शूटरों की व्यवस्था रखने को कहा हरजीत के कहने पर मैने उसके गैंगस्टर दोस्त को व्हटस अप के माध्यम से मृतक महल सिंह एंव उसके पुत्र की फोटों भेजी थी । 12 अक्तूबर 2022 को मुझे सिंगनल एप के माध्यम से उक्त शूटरों के लिये मोटर साईकिल की व्यवस्था करने के लिये बताया व इस काम में महिला रजविन्दर कौर व सेवी से सम्पर्क में रहने के लिये बताया चूंकि मैं हरजीत सिंह के साथ मिलकर स्टोन क्रेशर लगाना चाहता था जिसमें महल सिंह अड़ंगा डाल रहा था इसलिये मैंन हरजीत के बतायें प्लान के तहत काम किया । चूकि केसर के माध्यम से सेवी व रजविन्दर कौर को भी आर्थिक फायदा रहता इसलियें वह भी इस प्लान में शमिल थें दिनांक 12 अक्तूबर 2022 को सिगनल ऐप के माध्यम से माध्यम से हरजीत उर्फ काले ने अपने गैगस्टर साथी के साथ मोबाइल से बात करायी और बताया कि रात्रि 09:00 बजे तक शूटर काशीपुर पहुंच जायेगे मैं लगातार हरजीत सिंह उर्फ काले तथा कनाडा में बैठें दुसरें गैगस्टर साथी के सम्पर्क में था मैं करीब 09 बजे रात्रि दोनों शूटरों को लेने रेलवे स्टेशन काशीपुर से अपने दोस्त की बुलेरों से चीमा चौराहें होते हुये हरजीत सिंह उर्फ काले के घर ले गया जहाँ पर रजिवन्दर कौर व सेवी ने दोनों शूटरो के खाने-पीने की व्यवस्था की तथा मैंने दिन में खरीदी हुयी मोटर साईकिल शूटरों को देने के लिये सुखदेव सिंह उर्फ सेवी के सुपुर्द की तथा दिनांक 13 अक्तूबर 2022 को दोनों शूटरों के द्वारा प्लान के मुताबिक प्रातः चार बजे उठकर मैं अपने दोस्तो के साथ केदार नाथ निकल गया और जंगल के रास्ते शूटरों को मृतक महल सिंह के घर पर ले जाकर पूरे रास्तों की रैकी करवाई बाद में शूटरों ने हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-(Good News) हल्द्वानी के अभिजीत ने बढ़ाया देव भूमि का गौरव, एम्स MBBS परीक्षा में किया कमाल

पुलिस हरजीत सिंह के कारोबार के बारे में कर रही जानकारी
पुलिस जांच के दौरान प्रकाश में आये अभियुक्त हरजीत सिंह उर्फ काले के सम्बन्ध में/ कारोबार तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारियाँ टीम द्वारा एकत्र की जा रही है। प्रकाश में आया है कि हरजीत सिंह उर्फ काले का रूद्रपुर का कोई साथी आर्थिक कार्यों को स्थानीय स्तर पर देखता है इस घटना में उसकी भूमिका की भी जांच की जा रही है। पुलिस टीम के द्वारा अज्ञात शूटरों तथा अभियुक्त हरजीत सिंह उर्फ काले की योजना में शामिल अभियुक्त प्रभजोत सिंह पन्नू उर्फ प्रमजीत सिंह निवासी ग्राम गुलजार पुर कुण्डेश्वरी थाना काशीपुर, रजविन्दर कौर निवासी ग्राम गुलजार पुर कुण्डेश्वरी थाना काशीपुर, सुखदेव सिंह उर्फ सेवी निवासी निवासी ग्राम गुलजार पुर कुण्डेश्वरी थाना काशीपुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। फरार दोनों शूटरों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गैर राज्य भेजी जा चुकी है। जिनकी जल्द ही गिरफ्तारी की जायेगी । इस घटना में इण्टरनेशनल गिरोह के सम्मिलित होने के की भूमिका की भी जाँच की जा रही है।
घटना में सामिल ये फरार है आरोपी
1- हरजीत सिंह उर्फ काले
2- तनवीर सिंह पुत्र हरजीत सिंह
3- दो शूटर
गिरफ्तार आरोपियों से हुआ माल बरामद
1- एक अदद पिस्टल 30 कैलीवर नाजायज
2- कारतूस 08 जिन्दा 30 कैलीवर 30 कैलीवर
– कारतूस 02 खोखा पुलिस टीम का नाम

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

[wp-post-author]

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments