नैनीताल – रामगढ़ की भारती का कमाल, पिरूल से बनाए टोकरी व फ्लावर पॉट बने लोगो की पसंद

खबर शेयर करें -

गरमपानी (नैनीताल) -कहते हैं यदि मन में कुछ कर गुजरने की इच्छा हो तो रास्ते विपरीत परिस्थितियों से भी निकल कर सामने आते हैं इसी तरह का काम विषम भौगोलिक परिस्थितियों वाले दुरस्त पहाड़ी क्षेत्र की एक कॉलेज की छात्रा ने किया है। पर्वतीय क्षेत्रों में आमतौर पर जंगलों के लिए अभिषाप कहे जाने वाले चीड़ की पत्तियों से गिरने वाला पिरूल स्वरोजगार का घरों की सजावट से माध्यम बन गया है। पिरूल से तैयार की जा रही टोकरियां, फ्लावर पॉट समेत अन्य उत्पाद को सैलानियों के साथ ही स्थानीय लोग बेहद पसंद कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी -(School News) वाद -विवाद में DAV स्कूल की आरोही प्रथम

रामगढ़ ब्लॉक के ध्वेती गांव निवासी भारती जीना (भूमि) ने पिरूल से टोकरी, पिरुल से टोकरी बनाती भारती फ्लावर पॉट व सजावट के आइटम बनाकर अच्छी आय अर्जित कर रही है। उनकी बनाई पिरूल की टोकरी को बेहद पसंद किया जा रहा है।

भारती का कहना है कि जिस पिरुल को लोग अभिषाप मानते हैं, उसे उन्होंने आय का जरिया बना लिया है। उन्होंने अपने दादा से यह कला सीखी। उन्होंने कहा कि पिरुल से तैयार उत्पादों को प्रदर्शनी में भी लगाया जाता है। भारती हल्द्वानी से संगीत विषय में बीए कर रही हैं। उनके पिता तेज सिंह किसान और मां कमला जीना आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यरत हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखण्ड के चार धाम रूट पर श्रद्धालुओं और वाहनों की धारण क्षमता के आंकलन के निर्देश
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां हाईवे पर चलती कार में लगी आग, चालक ने कूदकर बचाई जान

उन्होंने कहा कि अगर सरकार और प्रशासन से सहयोग मिलेगा तो पिरूल से तैयार उत्पादों को बड़े स्तर पर बाजार मिलने से रोजगार भी बढ़ेगा। भारती इंस्टाग्राम में भी काफी फेमस है लाखों लोगों ने उनके वीडियो देखे हैं।

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments