हल्द्वानी – मजहर नईम नवाब का बयान, मदरसो में रामायण पढाने से गुरेज क्यों? शिक्षा लेनी चाहिए

खबर शेयर करें -
  • मदरसे में रामायण पढ़ाने के पक्ष में अल्पसंख्यक आयोग

हल्द्वानी – उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने मदरसों में रामायण पढ़ाने का फैसला लिया है। जिसके बाद अब उत्तराखंड अल्पसंख्यक आयोग ने भी इसका समर्थन किया है, अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब ने कहा कि जिस तरह से उत्तराखंड सरकार मदरसों में संस्कृत और इंग्लिश की पढ़ाई करवा रही है और मुस्लिम बच्चे संस्कृत और इंग्लिश पढ़ रहे हैं साथ ही मदरसों में एनसीईआरटी की व्यवस्था भी लागू की गयी है ऐसे में अगर मदरसों में रामायण पढ़ाई जाती है तो किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए उन्होंने कहा कि पढ़ाई से ज्ञान मिलता है बहुत से हिंदू और मुस्लिम समुदाय के लोग हैं जो एक दूसरे के धर्म का ज्ञान लेते है, रामायण की पढ़ाई करने से ज्ञान मिलेगा इससे किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के लोग इसका विरोध कर केवल राजनीति कर रहे है क्योंकि कांग्रेस ने हमेशा से मुसलमानो को धोखा देने का काम किया है जिसका नतीजा है कि आज मुस्लिम समुदाय शिक्षा के क्षेत्र में काफी पीछे है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड -(बधाई) हरिद्वार के शाश्वत सौम्य ने पास की राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल की प्रवेश परीक्षा
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - विभिन्न विभागों के 168 उपनल कर्मियों के सामने बड़ा संकट

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments