हल्द्वानीः उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति ने किया राजेंद्र ढैला को सम्मानित, मिला युवा गीतकार अवार्ड

खबर शेयर करें -

Haldwani News: उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति की ओर से राज्य स्तरीय सांस्कृतिक परिचर्चा भेट घाट का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में उत्तराखंड की लोक संस्कृति एवं समाज में गीतकारों की भूमिका और गीत लेखन के क्षेत्र में भविष्य की संभावनाएं विषय पर प्रदेश के कई गीतकारों, गायकों और संगीतकारों ने प्रतिभाग लिया। इस मौके पर उत्तराखंड की बोली-भाषा में गीत लेखन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले गीतकारों को सम्मानित भी किया गया। जिसमें युवा गीतकार के लिए लेखक और गायक राजेंद्र ढैला को सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड -(बधाई) 'श्रीजा' का कैलिफोर्निया के विश्व प्रसिद्ध स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में चयन

बता दें कि राजेंद्र ढैला लंबे समय से पहाड़ की लोक संस्कृति को संवारने में अपनी घुघुती जागर टीम के जरिये काम कर रहे है। वह लगातार पहाड़ की लोक संस्कृति को बचाने के लिए गीत ओर कविताओं के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रहे है। आज के दौर में फूल्हड़ गीतों को छोड़कर उन्होंने पहाड़ की संस्कृति और लोकलाओं, रीति-रिवाजों पर गीत लिखे जिन्हें लोगों ने खूब पसंद भी किया। जिसके लिए उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति की ओर से उन्हें युवा गीतकार का सम्माान दिया गया।

राजेंद्र ढैला द्वारा लिखे चर्चित गीतों में मुख्य रूप से पहाड़ ल्या रयूं, माया ल्हैगे भाबरा, मैं एक पहाड़ी छूं, ईजू प्यारी ईजा, ऐगे ऋतु रैणा भिटौली गीत, घीं संगरांत, आई दिवाली, नव संवत्सर, हर घर तिरंगा, भू कानून, विकास देखीना, रंग बिरंगी चहा, देवभूमि को बेटा, तुम लौटी नि आया आदि गीत शामिल है। उनके इन गीतों में एक खास संदेश देकर लोगों तक पहुंचाने का काम किया। उनका फेसबुक और यूट्यूब पर घुघुती जागर के नाम से चैनल और पेज है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी - (बड़ी खबर) अधिकारियों संग निकली DM फील्ड विजिट पर, दिए ये निर्देश
यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में SSP के रोल में नज़र आये राहुल देव

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments