Ad

BREAKING NEWS- उत्तराखंड के लिए बहुत बुरी खबर, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश का निधन

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें
  • 226
    Shares

रविवार को उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश का निधन हो गया। वह दिल्ली में कांग्रेस की बैठक में शामिल होने गई थी। दिल्ली में ही उनका निधन हुआ। नेता प्रतिपक्ष के निधन से समूचे उत्तराखंड में शोक की लहर दौड़ गई।

अविभाजित उत्तर प्रदेश से लेकर उत्तराखंड में इंदिरा ह्रदयेश का राजनीति में महत्वपूर्ण योगदान रहा है 7 अप्रैल 1941 को जन्मी इंदिरा हृदयेश का आज दिल्ली में निधन हो गया है, लगभग 80 वर्ष की उम्र में उत्तर प्रदेश से लेकर उत्तराखंड की सियासत में कद्दावर नेताओं में उनका शुमार रहा। उत्तराखंड के कुमाऊं के प्रवेश द्वार हल्द्वानी की दशा सुधारने में सबसे बड़ा हाथ इंदिरा हृदयेश का है। चार बार एमएलसी और चार बार विधायक रह चुकी नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश का लंबा राजनीतिक अनुभव रहा है।

पहली बार 1974 से 1980 तक उत्तर प्रदेश विधान परिषद की सदस्य रहने के बाद इंदिरा ह्रदयेश दूसरी बार 1986 से 1992 तक उत्तर प्रदेश में एमएससी बनी, इसके बाद 1992 से 1998 तक तीसरी बार एमएलसी रही और चौथी बार 1998 से 2000 तक एमएलसी रहने के बाद उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड अलग हो गया जिसके बाद फिर वह उत्तराखंड सरकार में लीडर आफ अपोजिशन के पद पर रही।

उत्तराखंड में पहले विधानसभा चुनाव में 2002 से 2007 तक वह कैबिनेट मिनिस्टर रही, संसदीय कार्य व कई महत्वपूर्ण विभाग उनके पास रहे, उसके बाद 2012 से 2017 तक फिर वह हल्द्वानी से चुनी गई और इस बार भी भारी भरकम विभागों के साथ कैबिनेट मिनिस्टर बनी और 2017 में फिर से चुनाव जीतने के बाद वह उत्तराखंड कांग्रेस की नेता प्रतिपक्ष चुनी गई और 13 जून 2021 को उन्होंने अंतिम सांस ली।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- राज्य में आई एफ एस अधिकारियों के ताबड़तोड़ तबादले, देखिए किसे मिली कहां जिम्मेदारी

COMMENTS

यह भी पढ़ें 👉  Breaking News- राज्य में आज कोरोना के इतने मामले सामने आए, दो कंटेनमेंट जोन भी बने देखिए, अपने इलाके का हाल
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड- CORONA की दस्तक से दो इलाके कंटेनमेंट जोन घोषित, आवाजाही बंद

उत्तराखंड से आज की सबसे बड़ी खबर नहीं रही नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर ब्रेन हेमरेज के कारण हुआ नेता प्रतिपक्ष का निधन इंदिरा हृदयेश के निधन से उत्तराखंड की राजनीति और कांग्रेस को लगा बड़ा झटका प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने इस बात की पुष्टि की है वहीं पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह ने भी इसकी पुष्टि की है

1974–1980Elected to Uttar Pradesh Legislative Council (1st Term)
1986–1992Elected to Uttar Pradesh Legislative Council (2nd Term)
1992–1998Elected to Uttar Pradesh Legislative Council (3rd Term)
1998–2000Elected to Uttar Pradesh Legislative Council (4th Term)
2000–2002Member Interim Uttarakhand Legislative AssemblyLeader of the Opposition Uttarakhand Legislative Assembly
2002–2007Elected to Uttarakhand Legislative Assembly (1st Term)Cabinet Minister for Public Works, Parliamentary Affairs,
State Assets, Information, Science & Technology
2012–2017Elected to Uttarakhand Legislative Assembly (2nd Term)Cabinet Minister for Finance, Commercial Tax, Stamps and Registration,
Entertainment Tax, Parliamentary Affairs, Legislative Affairs,
Election, Census, Language, Protocol
2017 – Till DateElected to Uttarakhand Legislative Assembly (3rd Term)Leader of the Opposition Uttarakhand Legislative Assembl
Ad
Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

4 Comments
Inline Feedbacks
View all comments