Ad

वो जो देखा था हमने एक सपना… कि कैसा होगा अलग प्रदेश अपना…

खबर शेयर करें

वो जो देखा था हमने एक सपना…
कि कैसा होगा अलग प्रदेश अपना…
वो सपना रोज़ टूटता हैं…
जब गाँव किसिका छूटता है….
जब मजबूरियाँ किसी को खींचती है…
और बूढ़ी आँखें चीखती है …
पर ज़ुबान ख़ामोश ही रहती है …
बस भली के जाया वो कहती है…
फिर जवानी नीचे भागती है…
और बुढ़ापा ऊपर बैठा बस राह तकता है…
कभी देहली पे ऐपण बनती थी
अब दरवाज़ों पे ताला लटकता है….

जिस राज्य के लिए बलिदान दिये थे
वो आज जंगल में बदल रहा है …
हो सके तो उठ जाओ
वक्त हाथ से फिसल रहा है..

जन्म दे भले ही पहाड़ नदी को
पर नदी पहाड़ को छोड़ती है…
जो सपना देखा था हमने
उसे हक़ीकत रोज़ तोड़ती है….

Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments