उत्तराखंड: (शाबास)- हल्द्वानी के धीरज बने आईआईएम में असिस्टेंट प्रोफेसर, परिवार में खुशी का माहौल

खबर शेयर करें -

Haldwani News: पहाड़ से प्रतिभाएं लगातार अपनी प्रतिभा का डंका बजा रही है। आज हर क्षेत्र में पहाड़ के युवाओं ने अपना दबदबा बनाया है। अब नैनीताल के डॉ. धीरज चंद्रा ने अपनी मेहनत और लगन से देश के प्रतिष्ठित भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) काशीपुर में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर चयनित होकर जिले का नाम रोशन किया है। 16 उम्मीदवारों में टॉपर होने पर, आईआईएम काशीपुर के निदेशक ने व्यक्तिगत रूप से डॉ. धीरज को इस उपलब्धि पर बधाई दी।

बता दे कि नैनीताल के रहने वाले और वर्तमान में हल्द्वानी डहरिया निवासी धीरज बचपन से ही होनहार और मेधावी छात्र रहे हैं। उन्होंने अपनी भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय नैनीताल से पढ़ाई पूरी की। अखिल भारतीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद उन्होंने जीबी पंत यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी पंतनगर से प्रोडक्शन इंजीनियरिंग में बीटेक किया।

गेट परीक्षा में अच्छे प्रदर्शन करने के बाद उन्हें आईआईटी दिल्ली के एमटेक औद्योगिक इंजीनियरिंग कार्यक्रम के लिए चुना गया। इसके बाद आईआईटी रुड़की में पीएचडी में दाखिला लिया और वर्ष 2019 में सप्लाई चैन मैनजेमेंट विषय में अपनी पीएचडी परीक्षा उत्तीर्ण की। पीएचडी करने के बाद उन्होंने कुछ वर्षो तक आईआईटी कानपूर में पोस्टडॉक्टोरल फेलो के पद पर रह कर रिसर्च की।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: यहां सड़क हादसे में दो बाइक सवार युवकों की दर्दनाक मौत
यह भी पढ़ें 👉  देहरादून : (बड़ी खबर) अब इस तारीख तक हो सकेंगे अधिकारी- कर्मचारियों के तबादले

अब उनका चयन दूसरे आईआईटी एवं आईआईएम में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद के लिए भी हुआ है। उनके पिता एसबीआई भीमताल से सहायक प्रबंधक के पद से सेवानिवृत्त है और माता गृहिणी है। धीरज की सफलता से क्षेत्र व परिवार में खुशी का माहौल है।

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments