देहरादून -(बड़ी खबर) महंगी किताबो पर अब टूटी विभाग की नींद

खबर शेयर करें -

देहरादून– शैक्षिक सत्र शुरू हुए 26 दिन गुजर चुके हैं। स्कूलों ने बच्चों से महंगी किताबें खरीदवा ली है और शिक्षा विभाग को अब जाकर याद आई है बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने एनसीईआरटी औरएससीईआरटी की किताबें ही लागू रखने का प्रावधान किया है। आयोग की ओर से प्राइवेट स्कूलों के लिए इस साल नौ अप्रैल को जारी निर्देशों पर शिक्षा विभाग ने 22 अप्रैल को जाकर बेसिक शिक्षा निदेशक को कार्रवाई करने के

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - गर्जिया मंदिर दर्शन करने आए लखनऊ के पर्यटक की डूब कर हुई मौत

आदेश जारी किए हैं। शिक्षा अफसरों के रवैये से अभिभावक भी हैरान हैं। उनका कहना है कि बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने पहली बार निर्देश नहीं दिए है। बल्कि वर्ष 2019 और वर्ष 2023 में भी इसी

■ आदेश के बावजूद निजी प्रकाशकों की किताबों पर नहीं लगी रोक

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के मैदानी जिलों में प्रचंड गर्मी का प्रकोप, हीट वेव का अलर्ट..

प्रकार शिक्षा विभाग को निर्देश दिए जा चुके हैं। लेकिन कार्रवाई कभी होती नहीं दिखाई दी। नेहरू कालोनी के आलोक कुमार बताते हैं कि उनका बेटा एक प्राइवेट स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ता है। । एक अप्रैल से पहले नेही पीटीएम में स्कूल की ओर से फरमान जारी हो गया था कि किताबें और यूनिफार्म स्कूल कैंपस से ले लें। किताबें ही साढ़े छह हजार रुपये की आई हैं। यदि एनसीईआरटी की अनिवार्यता होती तो दूसरी कक्षा की किताबें ढाई से तीन सौ रुपये तक तक ही बैठती।

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments