PCS अधिकारी ललित मोहन रयाल की यह किताब चर्चाओ में

Ad - Bansal Jewellers
खबर शेयर करें

साहित्यकार ललित मोहन रयाल एक कुशल गद्यकार हैं और अपनी विशेष व्यंग्य शैली के लिए जाने जाते हैं। उनकी तीन पुस्तकें ‘खड़कमाफी की स्मृतियों से’, ‘अथश्री प्रयाग कथा’ और ‘कारि तू कब्बि ना हारि’ पूर्व में प्रकाशित हो चुकी हैं, जिन्हें पाठकों का बेशुमार प्यार भी मिला है। अपनी अनूठी भाषा शैली के कारण गम्भीर साहित्य प्रेमियों से लेकर सुधी पाठकों तक को अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता रखने वाले रयाल एक बार पुनः अपनी नयी पुस्तक ‘ चाकरी चतुरंग’ के लिए साहित्य जगत में चर्चा-परिचर्चा के केंद्र में हैं। एमबीपीजी में हिंदी विभाग के प्राध्यापक डॉ सन्तोष मिश्र ने लेखक रयाल की नवीन रचना पर अपनी बात रखते हुए कहा कि एक आम आदमी को अपने जीवन में जिन कार्यालयों की कार्यशैली से खट्टे-मीठे अनुभव प्राप्त होते हैं, उन सभी गतिविधियों की चाकरी चतुरंग में सरस उपस्थिति मिल जायेगी।

वरिष्ठ लेखक प्रियदर्शन द्वारा पुस्तक के फ्लैप पर की गयी टिप्पणी काबिलेगौर है। वे लिखते हैं कि ललित मोहन रयाल की यह पुस्तक चाकरी चतुरंग भारतीय दफ्तरशाही का कच्चा चिट्ठा है। अफसरों और बाबुओं से भरे भारत के सरकारी दफ्तरों की दुनिया अपने आप में एक अजूबा है — वहां जितनी धूल है, उतने ही फूल हैं, वहां जितनी हलचल है, उतने ही ठहराव हैं, वहां जितनी गंभीरता है, उतनी ही अगंभीरता भी। इन दफ्तरों के बिना हिंदुस्तान का कामकाज नहीं चलता– भले ही वे रुके हुए से दिखें। दफ्तरों के बेशुमार किस्से इस किताब में मौजूद हैं।

खास बात यह है कि यह सारे किस्से उस लेखक द्वारा लिखे गए हैं जिसने इस पूरी प्रक्रिया को बहुत करीब से देखा ही नहीं है वरन बहुत हद तक उसमें शामिल भी रहा है। यह बात किताब की पठनीयता बढ़ाती है और प्रामाणिकता भी। यह किताब पारंपरिक अर्थों में उपन्यास नहीं है लेकिन इसे पढ़ते हुए उपन्यास का सा ही सुख मिलता है। अलग-अलग किरदारों की छोटी-छोटी कहानियां मिलकर एक महावृतांत बनाती हैं जिसे एक बहुत रोचक शैली और समृद्ध भाषा एक अतिरिक्त जीवंतता प्रदान करती है। इसे पढ़ते हुए भारतीय दफ्तरों को और करीब से देखने और उसकी मार्फ़त भारतीय मनोविज्ञान को समझने में मदद मिलती है। यह एक अलग तरह की किताब है, जिसे पढ़ा ही जाना चाहिए। चाकरी चतुरंग पुस्तक अनामिका प्रकाशन से प्रकाशित है।गद्य श्री सहित कई सम्मानों, अलंकरणों से विभूषित साहित्यकार ललितमोहन रयाल वर्तमान में उत्तराखंड शासन के शहरी निकाय विभाग के निदेशक पद पर कार्यरत हैं।

Ad
अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments