नैनीताल – DM वंदना ने फील्ड में उतर कर देखे कार्य, सरकारी भूमि पर अतिक्रमण पर सख्ती से निपटने के निर्देश

खबर शेयर करें -

रामगढ/नैनीताल – जिलाधिकारी वंदना ने गुरूवार को रामगढ-श्यामखेत-मुक्तेश्वर क्षेत्र का निरीक्षण कर क्षेत्रीय जनता की समस्याओं का समाधान किया। भ्रमण के दौरान उमागढ़ क्षेत्र के किसानों द्वारा मार्केटिंग की समस्या उठाई गई, जिलाधिकारी ने उद्यान, कृषि , मत्स्य विभाग को प्रगतिशील किसानों का एक फेडरेशन बनाने के निर्देश दिए। जिससे उनकी बीज, खाद आपूर्ति , सामूहिक मार्केटिंग आदि की जरूरतों को पूरा किया हो जा सके। इसके साथ ही नर्सरी का कार्य करने वाले इच्छुक किसानों को चिन्हित किया जाए। जिससे क्षेत्र से उच्च गुणवत्ता की पौध काश्तकारों को उपलब्ध कराई जा सके। इसके लिए विभाग द्वारा स्थानीय काश्तकारों के साथ बैठक कर आगे की ठोस कार्यवाही हेतु कार्य किया जायेगा।

रामगढ़ में उद्यान विभाग की कुल 08 एकड़ भूमि पर सेब के बगीचे, मदर प्लांट और क्लोनल रूट स्टॉक पर कार्य किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त उद्यान के पास लगभग 300 एकड़ की भूमि उपलब्ध है जिसमे उद्यान विभाग को प्रत्येक साल की कार्ययोजना बनाकर कार्य करने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिए।

चाय बागान श्यामखेत के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने चाय विकास बोर्ड को निर्देश दिए कि चाय बागान को पर्यटकों के लिए जानकारी के साथ नए अनुभव उपलब्ध करवाने के मॉडल के रूप में विकसित किया जाये। उन्होंने कहा कि चाय बागान के आसपास के क्षेत्र में बंजर पडी भूमि जो किसानों की है,उसको भी मनरेगा एवं टीबोर्ड के द्वारा चाय बागान के रूप में विकसित किया जाये । डीएम ने जीएम चाय बगान नवीन पांडेय को क्षेत्र के अन्य किसानों को भी चाय की खेती से जोड़ने के निर्देश दिए। कहा कि अधिकतम क्षेत्र में चाय बगानों का विस्तार किया जाए। बागान में चाय की प्रोसेसिंग और अन्य गतिविधियों को भी पर्यटकों के लिए रखा जाए। जिससे चाय विकास की प्रक्रिया की जानकारी पर्यटकों को दी जा सके । इससे यहां आने वाले पर्यटकों को संख्या में भी इजाफा होगा और एक अच्छा अनुभव अपने साथ लेकर जाएंगे। जी एम नवीन पांडेय ने बताया कि पिछले वर्ष चाय विक्रय केंद्र की रुपए 35 लाख को बिक्री हुई है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के मैदानी जिलों में प्रचंड गर्मी का प्रकोप, हीट वेव का अलर्ट..

जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को मल्ला रामगढ़ से झूतिया गॉव तक डामरीकरण, रोड सेफ्टी, आपदा सुरक्षा संबंधी कार्य तत्काल करवाने के निर्देश दिए। अधिशासी अभियंता जल संस्थान ने बताया कि मल्ला रामगढ़ में जल जीवन मिशन के तहत टैंक का निर्माण कराया जा रहा है। जिससे उमागड़, बोहराकोट आदि के ग्रामीणों को पानी की समस्या से निजात मिलेगा। साथ ही उन्होंने आर डब्लू डी विभाग को तल्ला रामगढ़ में क्षतिग्रस्त पुल को आपदा के अंतर्गत प्रोजेक्ट बना कर पुल निर्माण बनाने के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी -(बड़ी खबर) IAS दीपक रावत के निर्देश, 15 दिन के भीतर 15 साल का अतिक्रमण करें चिन्हित

निरीक्षण के दौरान खोपा गॉव के ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कई दिनों से खोपा गांव में पेयजल आपूर्ति ठप है । इससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिस पर जिलाधिकारी ने पटवारी, जल संस्थान और विद्युत विभाग के अधिकारियों को पम्पिंग लाइन से गांव खोपा तक लाइन का सर्वे कर रिपोर्ट देने और जल संस्थान को तत्काल आपूर्ति सुचारू करने के निर्देश दिए। साथ ही ग्रामीणों ने बताया कि भवन निर्माण, घरेलू उपयोग और बिल्डरों दवारा अवैध तरीके से नदी या गधेरों में मोटर के माध्यम से पानी लिया जा रहा है। जिस पर जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिकारियों को समय समय पर निरीक्षण कर चालान करने के निर्देश दिए।

निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी को कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि वर्षा के पानी को जियो लाइन टैंक के जरिये बारिश के जल संचय कर बागवानी एवं सिचाई के लिए पानी का उपयोग आसानी से किया जा सकता है। इसके लिए उन्होंने कुछ प्रोजेक्ट पर कार्य भी किया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - एक और भ्रष्टाचारी अधिकारी गिरफ्तार, 15000 की रिश्वत लेते रंगे हाथ

तल्ला रामगढ़ स्थित आगनवाड़ी केंद्र, प्राथमिक विद्यालय के निरीक्षण के दौरान विद्यालय की भौतिक संरचना उच्च कोटि की पाई गई। डीएम ने कहा कि भौतिक संरचना के साथ ही विद्यालय के शिक्षक अपने मूल कार्य शिक्षण पर भी ध्यान दे। विद्यालय में शिक्षण के साथ ही सहगामी गतिविधि का संचालन होना चाहिए किंतु शिक्षण का कार्य प्राथमिकता में रहे। इसका शिक्षक और प्रधानाचार्य को विशेष ध्यान रखने की जरुरत है।

रीठा में निरीक्षण के दौरान पी एम श्री रा. उ. मा. विद्यालय रीठा के प्रबंधक ने बताया कि सरकारी भूमि पर लगातार अतिक्रमण किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने एस डी एम को सीमांकन कर नोटिस देने अतिक्रमण हटाने, चालान करने के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने भालू गाड़ जल प्रपात का निरीक्षण किया। उन्होंने जल संस्थान को अमृत सरोवर, चाल खाल के लिए जगह चिन्हित करने के निर्देश और सौंदर्यकरण करने की बात कही।

निरीक्षण के दौरान एसडीएम नैनीताल प्रमोद कुमार, सीईओ जे एस सोनी, सीएओ वी के यादव, डी पी ओ अनुलेखा, सहित क्षेत्रीय जनता मौजूद थी।

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments