हल्द्वानी- भीमताल- सलडी और ज्योलिकोट के लोगो को उजड़ने से बचाया जाए: हरीश पनेरु

खबर शेयर करें -

हल्द्वानी- पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हरीश पनेरु ने सड़क किनारे अतिक्रमण के नाम पर अपनी आजीविका चलाने वाले लोगों के साथ अन्याय न करने की मांग सरकार से की है। हरीश पनेरु ने कहा कि नैनीताल ज़िले के अन्तर्गत भीमताल सलडी तथा जियोलिकोट से हल्द्वानी तक सड़क किनारे दुकानें कर अपनी आजीविका चलाने वाले उत्तराखंड के मूल निवासियों के साथ उत्तराखंड सरकार को भी मालिकाना हक़ देना चाहिए, क्योंकि उक्त क्षेत्रों में 19,50 से विस्थापित दुकानदार पर्यटन के साथ साथ उत्तराखंड में पलायन को रोकने में मददगार साबित हुए हैं। उस टाइम पर वन पंचायत ने प्रस्ताव पारित कर उक्त भूमि दियी गयी थी इसलिए प्रदेश सरकार उनको उजडने से बचाने के लिए बन पंचायती की भूमि बंजर भूमि बेनाप भूमि पर बसे लोगों को मालिकाना हक़ दे। तभी उत्तराखंड से पलायन एवं उत्तराखंड के मूल निवासियों की रक्षा हो सकती है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड - यहां अनियंत्रित होकर खाई में गिरी स्कूल बस, मची चीख पुकार

उक्त बात भीमताल पत्रकार वार्ता कोसंबोधित करते हुए पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हरीश पनेरू कहीं और प्रमाण पत्र के साथ 1975 वनपंचायत के अभिलेख दिखाये इसलिए माननीय न्यायालय के आदेशों का सम्मान करते हुए उक्त भूमि पर बसे लोगों को मालिकाना हक़ देने हेतु कैबिनेट से पास कराकर आगे की कार्रवाई कराई जाए तथा हाईकोर्ट नैनीताल में सरकार की ओर से पुनर्विचार याचिका दाख़िल हो, क्योंकि पहले से ही पलायन की मार झेल रहे पहाड़ी क्षेत्र में एक बार फिर से नौ जवान उक्त घटना का संज्ञान लेकर पलायन करने को मजबूर हो सकते हैं।

तथा पर्यटन व्यवसाय पर भी इसका असर पड़ सकता हैं युवा तथा बेरोज़गारों को लगने लगे कि अपने राज्य में पराये है ।क्योंकि इसमें बहुत सारे बेरोज़गार कोरोना काल में सरकार के आह्वान पर उत्तराखंड आकर अपना व्यवसाय कर रहे हैं इस इस संबंध में कल प्रभागीय वन अधिकारी नैनीताल श्री चन्द्रशेखर जोशी को अभिलेखों के अवगत करा चुके है।

अपने मोबाइल पर ताज़ा अपडेट पाने के लिए -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

हमारे इस नंबर 7017926515 को अपने व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ें

Subscribe
Notify of

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments